सरफराज ही करेंगे श्रीलंका के खिलाफ कप्तानी, बाबर बने उपकप्तान

सरफराज ही करेंगे श्रीलंका के खिलाफ कप्तानी, बाबर बने उपकप्तान

नई दिल्ली: वर्ल्‍ड कप में खराब प्रदर्शन के बाद भी सरफराज अहमद की पाकिस्‍तान के कप्‍तान के रूप में कुर्सी बच गई है. श्रीलंका के खिलाफ 3 वनडे और 3 टी20 मैचों की सीरीज के लिए उन्‍हें कप्‍तान के रूप में बरकरार रखा गया है जबकि युवा बल्‍लेबाज बाबर आजम को उपकप्‍तान बनाया गया है. पाकिस्‍तान क्रिकेट बोर्ड अब सीरीज दर सीरीज कप्‍तान का फैसला करेगा. वर्ल्‍ड कप में पाकिस्‍तान के सेमीफाइनल में न पहुंचने के बाद अंदेशा था कि सरफराज को ह‍टाया जा सकता है. पाकिस्‍तान के पूर्व कोच मिकी आर्थर ने उन्‍हें हटाए जाने की सिफारिश की थी. लेकिन नवनियुक्‍त कोच और चयनकर्ता मिस्‍बाह उल हक ने सरफराज का समर्थन किया था.

श्रीलंका के खिलाफ सीरीज के लिए कप्‍तान बनाए जाने पर सरफराज ने पीसीबी का आभार जताया. उन्‍होंने कहा कि वह पाकिस्‍तान के बेहतर प्रदर्शन के लिए हरसंभव प्रयास करेंगे. उन्‍होंने कहा, 'मुझे पता है कि हम वनडे में हमारी काबिलियत के हिसाब से नहीं खेल पाए हैं जो कि हमारे और फैंस दोनों के लिए निराशाजनक है. मुझे उम्‍मीद है कि हम आने वाले महीनों में चीजों को बदल पाएंगे. मैं फैंस को भरोसा देता हूं कि आने वाले टूर्नामेंट में वे कोई कमी नहीं छोड़ेंगे.'

वहीं सरफराज अहमद को उम्मीद है कि आतंकवादी हमले की धमकी के बाद भी श्रीलंका की टीम सीमित ओवरों की श्रृंखला के लिए पाकिस्तान का दौरा करेगी. श्रीलंका क्रिकेट ने बुधवार को कहा कि उसे पाकिस्तान के प्रस्तावित दौरे के दौरान आतंकवादी हमले की धमकी दी गई है.

बोर्ड ने कराची में 27 सितंबर से शुरू होने वाले तीन एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों से पहले सुरक्षा स्थिति की फिर से जांच करने की मांग की है. पाकिस्तान में 2009 में श्रीलंकाई टीम के बस पर हुए आतंकवादी हमले के बाद अंतरराष्ट्रीय टीमों वहां का दौरा नहीं कर रही है.

एकदिवसीय श्रृंखला के बाद दोनों टीम के बीच पांच से नौ अक्टूबर तक तीन टी20 अंतरराष्ट्रीय मैचों की श्रृंखला खेली जानी है. सरफराज ने शुक्रवार को कराची में कहा, ‘अल्लाह ने चाहा तो वे आयेंगे, हमें अपनी तरफ से उम्मीद रखनी चाहिए. पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड पूरी कोशिश कर रहा है और हम सभी को दुआ करनी चाहिए कि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की पाकिस्तान में वापसी हो. पीसीबी से पिछले 10 वर्षों में जिस तरह से इस मुद्दे पर मेहनत की है वह काबिल ए तारीफ है.’