महिलाओ के शशक्तिकरण से ही, बहुजन समाज शशक्त हो सकता है : लक्ष्य

महिलाओ के शशक्तिकरण से ही, बहुजन समाज शशक्त हो सकता है : लक्ष्य

लखनऊ: लक्ष्य की टीम ने " लक्ष्य गांव गांव की ओर" अभियान के तहत एक भीमचर्चा का आयोजन लक्ष्य युथ कमांडर शैलेन्द्र आर्या के नेतृत्व में लखनऊ के बक्शी का तालाब के गांव लोहूंगपुर में किया जिसमे गांव की महिलाओ ने बढ़चढ़कर हिस्सा लिया | प्रदेश में लक्ष्य संगठन की बढ़ती लोकप्रियता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि लक्ष्य के कैडरों में लोग विशेषततौर से महिलाएं व् युवा बढ़चढ़कर हिस्सा ले रहे है |

महिलाओ के शशक्तिकरण से ही, बहुजन समाज शशक्त हो सकता है, अगर किसी समाज को मजबूत होना है तो उसको अपने समाज की महिलाओ को मजबूत करना होगा क्योकि महिला ही परिवार की नीव होती है और वो जितनी शक्तिशाली होगी उतना ही परिवार शशक्त होगा, मजबूत होगा और अगर बहुजन समाज की महिलाओ का विश्लेषण करें तो पाते है कि बहुजन समाज की महिलाएं शिक्षा के क्षेत्र में कमजोर है उनको आज भी शिक्षा के बहुत अवसर नहीं मिलते है, वे अन्धविश्वास में लिप्त है, उनकी आर्थिक स्थिति कमजोर है और परिणाम स्वरूप समाज की नीव कमजोर होने से सारा का सारा समाज कमजोर दिखाई देता है यह बात लक्ष्य कमांडर रेखा आर्या व् संघमित्रा गौतम ने कही |

उन्होंने बहुजन समाज के लोगो अपील करते हुए कहा कि वो बेटियों को अवश्य शिक्षित करे और महिलाओ को भी सामाजिक क्षेत्र में आगे लाये और उनको महापुरुषों के योगदान से अवगत कराये ताकि वो सामाजिक कुरीतियों से छुटकारा पा सके, उनके अंदर वैज्ञानिक सोच का निर्माण हो सके और वो समाज को मजबूती प्रदान कर सके | उन्होंने महिलाओ से अवाहन करते हुए कहा कि वो अपने अधिकारों को समझे और उनके लिए आगे आये तभी आप का, आपके परिवार व् समाज का भला हो सकता है |

Lucknow, Uttar Pradesh, India