अमेठी: रिटायर आर्मी कैप्टन की घर में घुसकर पीट-पीटकर हत्या

अमेठी: रिटायर आर्मी कैप्टन की घर में घुसकर पीट-पीटकर हत्या

अमेठी: उत्तर प्रदेश के अमेठी में अज्ञात हमलावरों ने 64 वर्षीय सेना के सेवानिवृत्त कैप्टन की पीट-पीटकर हत्या कर दी है। रिटायर सेना अधिकारी अमानुल्लाह और उनकी पत्नी अपने घर में थे जब लोगों के एक समूह ने उन पर लाठियों से हमला किया। मामले की जांच जारी है। हमले के पीछे के कारण का पता नहीं चला है। यह घटना शनिवार की रात को कमरौली पुलिस थाने की सीमा के अंतर्गत गोडियन का पुरवा गांव में हुई।

उनके बेटे ने अपने बयान में कहा, 'हमलावरों ने अमानुल्लाह के सिर पर हमला किया, जिसके कारण उनकी मौके पर ही मौत हो गई।' उन्होंने आगे कहा कि जब हमला हुआ तो उनके माता-पिता के अलावा परिवार का कोई भी सदस्य घर में नहीं था। रात को कुछ बदमाश घर आए और माता-पिता को रस्सी से बांध दिया और पिता के सिर पर लाठी-डंडो से प्रहार कर उनकी हत्या कर दी।

विपक्षी दलों द्वारा योगी आदित्यनाथ सरकार पर राज्य में बिगड़ती कानून व्यवस्था को नियंत्रित करने के लिए कुछ भी नहीं करने का आरोप लगाया जाता है। जून में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य में कानून-व्यवस्था की स्थिति की समीक्षा करने के लिए वरिष्ठ अधिकारियों के साथ एक समीक्षा बैठक की, जिसमें राज्य में बलात्कार और मॉब लिंचिंग में वृद्धि देखी गई।

इस साल मई में लोकसभा चुनाव के कुछ ही दिनों बाद ही केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के करीबी सुरेंद्र सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। वह अपने घर के बाहर सो रहे थे। सिंह की हत्या होने पर स्मृति ईरानी अमेठी आईं और वह मृतक के परिवार से मिलीं और यहां तक कि दाह संस्कार में भी शामिल हुईं। बाद में उत्तर प्रदेश पुलिस ने मामला हल करते हुए कहा कि पूर्व ग्राम प्रधान के हत्यारे उनके स्थानीय राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी थे। यह व्यापक रूप से अनुमान लगाया गया था कि सिंह की हत्या इसलिए की गई क्योंकि उन्होंने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की नेता स्मृति ईरानी के लिए प्रचार किया था। मीडिया को संबोधित करते हुए पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने सबूतों के आधार पर कहा कि पीड़ित की स्थानीय स्तर की प्रतिद्वंद्विता थी क्योंकि एक आरोपी पंचायत चुनाव लड़ना चाहता था, लेकिन सिंह एक अन्य आकांक्षी का समर्थन कर रहे थे।

Uttar Pradesh, India