स्वरा भास्कर ने मोब लिंचिंग को बताया देश के लिए महामारी

स्वरा भास्कर ने मोब लिंचिंग को बताया देश के लिए महामारी

पीएम मोदी को खत लिखने वालों का किया समर्थन

नई दिल्ली: स्वरा भास्कर हर मुद्दे पर अपनी बात खुलकर रखती हैं। रिसेंटली स्वरा भास्कर ने मॉब लिंचिंग पर अपनी बात रखी है। देश में भीड़ की हिंसा को देखते हुए उन्होंने कहा कि किसी भी कठोर वास्तविकता से मुंह मोड़ना बहुत मुश्किल है।

पीएम मोदी को मॉब लिंचिंग को लेकर खुला पत्र लिखने वाले 49 लोगों की तारीफ करते हुए स्वरा भास्कर ने अपनी बात रखी है। उन्होंने कहा कि इस मुद्दे से निपटने के लिए मजबूत कानून की सख्त जरूर है।

स्वरा भास्कर ने मॉब लिंचिंग को महामारी बताया है। उन्होंने कहा, 'मुझे नहीं लगता कि हम अपने चेहरे को किसी कठोर वास्तविकता से दूर कर सकते हैं। इसका गलत मतलब निकालने का कोई मतलब नहीं है। ये देश की एक महामारी जैसा है।'

जिन निर्माताओं, लेखकों और गायकों ने पीएम मोदी को मॉब लिंचिंग को लेकर खत लिखा है उनकी तारीफ की है। स्वरा ने कहा, 'फिल्म निर्माताओं, लेखकों और गायकों की सराहना की जो देश में हो रही इन दुखद घटनाओं के लिए प्रधानमंत्री का ध्यान आकर्षित करने के लिए एक साथ आए हैं। मेरा मानना है कि यह बहुत सराहनीय है कि देश में कलाकार और लेखक समाज में जो कुछ भी हो रहा है उससे प्रभावित हैं।'

स्वरा भास्कर ने कहा कि वो पिछले तीन से चार सालों से भीड़ कि हिंसा मुद्दे पर अपनी बात रखने की कोशिश कर रही हूं। सिर्फ यह नहीं मानव सुरक्षा कानून के लिए भी बात हो रही है मगर ये सभी चीज सुधरने के बजाय और खराब होती जा रही हैं।

स्वरा ने आगे कहा कि जे बहुत जरूरी है कि जिला अधिकारी या जहां इस तहर की घटनाएं हो रही हैं वह वहां ध्यान रकें। मुझे विश्वास है पीएम ऐसा करने की शक्ति रखते हैं वो इस मामले को देखेंगे। उन्होंने आगे कहा कि ये अच्छी बात है कि सब अपनी बात खुलकर रख रहे हैं। लोकतंत्र में हर विचारधारा का स्वागत होना चाहिए।