शोषण उनका होता है, जो इसका विरोध करने का साहस नहीं करते  है : लक्ष्य

शोषण उनका होता है, जो इसका विरोध करने का साहस नहीं करते है : लक्ष्य

लखनऊ: लक्ष्य की महिला टीम ने " गांव गांव जागरूकता" अभियान के तहत एक भीमचर्चा का आयोजन लखनऊ के गांव बनौर में किया | शोषण उन लोगो के साथ होता है जो इसका विरोध करने का साहस नहीं करते है अर्थात दबंगो की दबंगई तब तक चलती रहती है जब तक उनका विरोध नहीं किया जाता है यह बात लक्ष्य की महिला कमांडरों ने भीमचर्चा के दौरान कही | लक्ष्य की महिला कमांडरों ने दुःख प्रकट करते हुए कहा कि आज भी देश में जातीय शोषण जारी है और इसके मुख्य कारण बहुजन समाज के लोगो में एकता का अभाव तथा सरकार का लचीलापन है | उन्होंने लोगो से अपील करते हुए कहा कि वो ऐसे जातीय शोषण का मिलकर विरोध करे और आपस में भाईचारे के साथ रहें |

लक्ष्य महिला कमांडरों ने बहुजन समाज के युवाओ से आवाहन करते हुए कहा कि वो समाज को जागरूक करने के लिए आगे आएं ताकि समाज में एक मजबूत भाईचारा बनाया जा सके और जातीय शोषण का खात्मा किया जा सके | उन्होंने कहा कि बाबा साहब डॉ भीमराव अम्बेडकर के मानने वाले लोग लाचार नहीं हो सकते है|

इस भीमचर्चा में लक्ष्य कमांडर रेखा आर्या, मुन्नी बौद्ध, धम्मप्रिया गौतम, रंजना गौतम, सुमन गौतम, फूलमती गौतम, बिमलेश,कमला, ज्योति, नंदरानी ,रवि कुमार चौधरी, धर्मराज गौतम ,अनूप आर्या , श्रवण गौतम व् श्रीकान्त चौधरी ने हिस्सा लिया।

Lucknow, Uttar Pradesh, India