पीएम मोदी की इतनी पब्लिसिटी का पैसा कहाँ से आ रहा है

पीएम मोदी की इतनी पब्लिसिटी का पैसा कहाँ से आ रहा है

आगरा में राहुल -प्रियंका ने 'न्याय रथों' को किया रवाना

आगरा: आगरा के जरार में सोमवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी, ज्योतिरादित्य सिंधिया ने फतेहपुर सीकरी से प्रत्याशी राज बब्बर के समर्थन में जनसभा को संबोधित किया| सभा को सम्बोधित करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि ‘‘आज सभी माध्यमों से प्रधानमंत्री की पब्लिसिटी हो रही है, टी.वी., अखबार के लिए इतना पैसा कहां से आ रहा है, क्योंकि टी.वी. पर प्रत्येक 30 सेकेण्ड के लिए लाखों रूपये लगते हैं। उन्होने कहा कि हमारी सरकार देश के पांच करोड़ गरीब परिवारों को हर साल 72 हजार रूपये देगी। उन्होने यह भी कहा कि इसके लिए मिडिल क्लास से कोई पैसा नहीं लेंगे, बल्कि अनिल अम्बानी और मेहुल चौकसी की जेब से पैसा निकालकर गरीबों की जेब में डालेंगे। चौराहुल का सवाल कीदार गरीबों के घर के सामने नहीं बल्कि अनिल अम्बानी जैसे अमीरों के घर के सामने होते हैं। मोदी जी दो तरीके का हिन्दुस्तान बनाना चाहते हैं एक गरीबों का और दूसरा नीरव मोदी एवं विजय माल्या वाला हिन्दुस्तान। उन्होने कहा कि उ0प्र0 में भाजपा की सरकार है लेकिन न तो उन्होने आलू किसानों के लिए कुछ किया और न ही कर्जमाफी का वादा निभाया। उन्होने कहा कि हम हर साल न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ायेंगे। उन्होने कहा कि छत्तीसगढ़, राजस्थान और मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकारें फूड प्रोसेसिंग यूनिट लगा रही हैं जिससे जहां पर आलू की पैदावार ज्यादा होगी वहां पर चिप्स की फैक्ट्री, जहां पर टमाटर की पैदावार ज्यादा होगी वहां कैचप की फैक्ट्री होगी। किसान इन फैक्ट्रियों में सीधा अपना उत्पाद बेंच सकेंगे, कोई बिचैलिया नहीं होगा। उन्होने याद दिलाया कि सरकार के तीन प्रमुख वादे जिसमें बेरोजगार युवाओं को प्रतिवर्ष 2 करोड़ रोजगार, किसानों की कर्जमाफी एवं प्रत्येक खाते में 15-15 लाख रूपये, किन्तु इनका क्या हुआ यह पब्लिक सब जानती है।’’

प्रियंका के किसानों के मुद्दे पर पीएम मोदी को घेरा. उन्होंने कहा कि अगर आप राष्ट्रवादी हैं, तो नंगे पांव चलकर आपके दरवाजे तक आने वाले किसानों से क्यों नहीं मिले. आपके साथी ने किसी महिला के खिलाफ बयान दिया, तो आपने उसे इस देश की तहज़ीब क्यों नहीं सिखाई. कांग्रेस महासचिव ने कहा कि जब छात्रों, किसानों, अध्यापकों या समाज के किसी भी तबके ने अपना हक और अधिकार की मांग की तो उन्हें पीटा गया. उनके खिलाफ मामले दर्ज किए गए. उन्होंने देशद्रोही बता दिया गया. सवाल पूछने वाले को देशद्रोही बता दिया गया है.

जनसभा को सम्बोधित करने के न्याय रथ को गरीबी पर वार-72 हजार, हर गरीब परिवार को 72 हजार जैसे नारों के बीच राहुल गांधी के नेतृत्व में सभी नेताओं ने हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया।

Uttar Pradesh, India