जहरीली शराब से मौतें सरकार की लापरवाई का परिणाम, CBI जांच हो: मायावती

जहरीली शराब से मौतें सरकार की लापरवाई का परिणाम, CBI जांच हो: मायावती

लखनऊ: उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में जहरीली शराब से हुई मौतों को लेकर बसपा सुप्रीमो मायावती ने रविवार को बीजेपी और राज्य सरकार पर निशाना साधा। मायावती ने ट्वीट कर इन घटनाओं को बीजेपी सरकारों की घोर सरकारी लापरवाही व उदासीनता का परिणाम बताया।

मायावती ने ट्वीट किया, उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड में अवैध तरीके से तैयार नकली व जहरीली शराब पीने से सौ से अधिक गरीब/मजदूर लोगों की दर्दनाक मौत तथा लगभग उतने ही लोगों के जिंदगी मौत से जूझने की घटनाएं अति दुखद व अति शर्मनाक हैं। मायावती ने अपील की कि सरकार मृतक परिवारों को उचित मुआवजा दे और सीबीआई से घटना की जांच कराए।

बसपा सुप्रीमो ने यूपी और उत्तराखंड के आबकारी मंत्रियों को फौरन हटाने के लिए भी कहा है। उन्होंने आगे लिखा कि केंद्र व राज्यों की बीजेपी सरकारों के मुखियो को दिन रात संकीर्ण व चुनावी राजनीति करने फुर्सत नहीं है। मायावती ने आगे लिखा कि यह पब्लिक है और सब जानती है। अब समय आ गया है कि जनता हिसाब लेगी।

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में जहरीली शराब से हुई मौतों से हड़कंप मच गया है। अबतक यूपी के सहारनपुर, कुशीनगर और उत्तराखंड में कुल 98 लोगों की मौत हो चुकी है। कई का अस्पतालों में इलाज चल रहा है। जहरीली शराब से अकेले सहारनपुर 35 मौतें हुई हैं, जबकि 18 ने मेरठ में इलाज के दौरान दम तोड़ा। हरिद्वार में 34 और कुशीनगर में 11 मौतें हुई हैं। मरने वाले ज्यादातर वे लोग हैं, जो हरिद्वार के बालूपुर गांव में एक तेरहवीं संस्कार में शामिल होने गए थे और वहीं पर उन्होंने शराब पी थी।

यूपी मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने अवैध शराब के कारोबार में लिप्त लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी है चाहे वह किसी भी राजनीतिक दल से क्यों ना संबद्ध हों। योगी ने कहा कि आजमगढ़, हरदोई, बाराबंकी और कानपुर जैसे जिलों में पूर्व में जहरीली शराब से हुई मौतों की घटनाओं में सपा से जुड़े नेताओं को शामिल पाया गया था। अगर इस बार भी ऐसी कोई साजिश पाई गई तो दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।