मासूम 'खजांची' दिखाएगा अखिलेश यादव की साइकिल यात्रा को हरी झंडी

मासूम 'खजांची' दिखाएगा अखिलेश यादव की साइकिल यात्रा को हरी झंडी

लखनऊ: समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव अपने चुनावी अभियान की शुरुआत कन्नौज से शुरू करेंगे. अपनी साइकिल यात्रा के पहले चरण में अखिलेश 50 किलोमीटर की दूरी तय कर 2019 के लोकसभा चुनाव में पार्टी के लिए जनता का समर्थन मांगेंगे. अखिलेश की इस साइकिल यात्रा में सबसे खास बात यह है कि उनकी यात्रा को हरी झंडी मासूम खजांची और उसका परिवार दिखाएगा. खजांची वह बच्चा है जो 2016 में नोटबंदी के दौरान बैंक की लाइन में पैदा हुआ था.

बता दें अखिलेश यादव ने अगला लोकसभा चुनाव कन्नौज से लड़ने का ऐलान किया है. वर्तमान में उनकी पत्नी डिंपल यादव यहां से सांसद हैं. अखिलेश की साइकिल यात्रा कन्नौज की ठठियामंडी से शुरु होकर आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे की हवाईपट्टी पर संपन्न होगी. जहां से अखिलेश की साइकिल यात्रा शुरू होगी उस जगह पर खजांची का परिवार भी मौजूद रहेगा. खजांची अखिलेश की यात्रा को हरी झंडी देकर रवाना करेगा. अखिलेश की इस यात्रा का कार्यक्रम जल्द ही घोषित किया जाएगा.

बता दें कानपुर देहात के झींझक पंजाब नेशनल बैंक में नोट बदलवाने पहुंची सर्वेशा देवी ने एक बच्चे को जन्म दिया था. जिसका नाम तत्कालीन अखिलेश यादव ने खजांची रखा था. अखिलेश ने उस वक्त परिवार की आर्थिक मदद भी की थी. 2017 के विधानसभा चुनाव के दौरान अपनी चुनावी सभा में अखिलेश ने खजांची के नाम का कई बार जिक्र किया था. एक बार फिर अखिलेश की चुनाव अभियान की शुरुआत खजांची के नाम से ही शुरू होगी.

बता दें अखिलेश यादव ने हाल में ही घोषणा की थी कि वे 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले वे हर महीने एक साइकिल यात्रा निकालेंगे जो प्रदेश के अलग-अलग जिलों से होकर निकलेगी. 2012 में भी अखिलेश यादव ने ऐसी ही साइकिल यात्रा निकाली थी. जिसके बाद समाजवादी पार्टी को प्रदेश में पूर्ण बहुमत मिला था. उस समय अखिलेश यादव ने प्रदेश में 10 हजार किलोमीटर की यात्रा की थी. एक बार फिर अखिलेश उत्तर प्रदेश में साइकिल चलाएंगे और केंद्र की मोदी सरकार की विफलताओं को लेकर जनता के बीच में जाएंगे.

न्यूज18 से बात करते हुए समाजवादी पार्टी के प्रवक्ता सुनील सिंह सजन ने कहा, " हमारा लक्ष्य है कि लोकसभा चुनाव से पहले सूबे के हर जिले से होकर साइकिल यात्रा गुजरे. यात्रा एक जिले से शुरू होकर दूसरे जिले में खत्म होगी. इस बार जिले की समस्या और समाजवादी सरकार में किए गए कामों को जनता के बीच रखा जाएगा. इस बार भी साइकिल यात्रा 10 हजार से ज्यादा की दूरी तय करेगी.