सरकार बनाने के लिए इमरान को 21 मेंबरों की दरकार

सरकार बनाने के लिए इमरान को 21 मेंबरों की दरकार

नई दिल्ली: पाकिस्तान आम चुनाव के सभी नतीजों की आधिकारिक घोषणा कर दी गई हैं. इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) अकेली सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है. कुल 270 सीटों के लिए चुनाव हुआ था, जिसमें से इमरान खान की पार्टी पीटीआई ने 116 सीटें जीती हैं. लेकिन सरकार बनाने के लिए जादुई नंबर (137) से उनकी पार्टी 21 सीटें पीछे रह गई हैं. अब इमरान खान की पार्टी को सरकार बनाने के लिए गठबंधन की आवश्यकता होगी. ऐसे में सवाल यह है कि इमरान खान सरकार बनाने के लिए जरूरी नंबर कहां से लाएंगे. पाकिस्तान में अगली सरकार बनाने के मकसद से इमरान खान ने विभिन्न पार्टियों और निर्दलीय उम्मीदवारों से संपर्क करना शुरू कर दिया है.

इमरान की कोशिश होगी कि पाकिस्तान मुस्लिम लीग (Q) यानी Pakistan Muslim League (Quaid e Azam Group) के 4, ग्रांड डेमोक्रेटिक अलांयस (Grand Democratic Alliance) के 2 के साथ सभी 13 निर्दलीयों को साथ लेने की. कुल मिलाकर ये 19 होते हैं, बाक़ी के दो में से जम्हूरी वतन पार्टी (JMP) के 1 और अवामी मुस्लिम लीग (AML) के 1 हो सकते हैं. कुल मिलाकर यह आकंड़ा 21+116=137 पर पहुंच जाएगा और इमरान खान की पार्टी सरकार बना लेगी.

वहीं, जेल में बंद पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की पार्टी पाकिस्तान मुस्लिम लीग- नवाज (पीएमएल - एन) 64 सीटों के साथ दूसरे नंबर पर तो पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी की पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) 43 सीटों के साथ तीसरे स्थान पर है, जबकि निर्दलीय उम्मीदवारों के खाते में 13 सीटें आयी हैं. बता दें कि इमरान खान ने शनिवार को इस्लामाबाद में सऊदी के राजदूत नवाफ सईद अहमद अल-माल्लिकी से मुलकात भी की. दोनों ने द्विपक्षीय संबंधों पर चर्चा की और पीटीआई सरकार के कार्यकाल के दौरान संबंधों को और प्रगाढ़ करने पर सहमत हुए.

अब कुल मिलाकर इमरान खान की पार्टी (PTI) को छोटी पार्टियों और इंडिपेंडेंट्स के सहारे ही सत्ता हासिल होगी. वहीं, कानून के अनुसार, पाकिस्तान के राष्ट्रपति को सांसदों के शपथ ग्रहण और नये स्पीकर के चयन के लिये चुनाव के 21 दिन के अंदर नेशनल असेंबली का पहला सत्र आहूत करना चाहिए.