बेटी बचाओ अभियान चलाने वाले बेटियों को सरे राह पीट रहे है: डॉ. रमेश दीक्षित

बेटी बचाओ अभियान चलाने वाले बेटियों को सरे राह पीट रहे है: डॉ. रमेश दीक्षित

लखनऊ ,28 जुलाई | राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने आज प्रदेश के बड्डे पैमानों पर छात्रो ख़ास तौर पर छात्राओं की गिरफ्तारी और बिना महिला पुलिस करनियों के उनकी गिरफ्तारी और सरे राह पिटाई की तीव्र स्वर में निंदा की है |

राकापा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. रमेश दीक्षित ने आज लखनऊ में प्रधानमंत्री के दौरे पर ऐतिहातन की गयी गिरफ्तारी की कड़े स्वर में निंदा की है | डॉ. रमेश दीक्षित ने कहा कि केंद्र और प्रदेश की सरकार बौखलाहट में प्रदेश के छात्रो के दमन पर उतरा आई है | एक तरफ तो केंद्र और प्रदेश की सरकार बेटी बचाने के अभियान में लगी है तो वहीँ दूसरी तरफ प्रदेश में विश्वविद्यालय के छात्र छात्राओं को बिना महोला पुलिस कर्मियों के सरे आम अपराधियों की तरह पीटा जाता है और जबरन गिरफ्तार किया जाता है | डॉ. रमेश दीक्षित ने इलाहाबाद में नेहा यादव , रमा यादव , अश्वनी मौर्या , मोहित यादव समेत लखनऊ विश्वविद्यालय के छात्र पूजा शुक्ला , महेंद्र यादव , गौरव त्रिपाठी , पवन राय और गौरव पाण्डेय की तत्काल रिहाई की भी मांग की है साथ ही साथ इलाहाबाद में अमित शाह के आगमन का विरोध कर रही नेहा यादव रमा यादव , अश्वनी मौर्या , मोहित यादव की सड़क पर ही बर्बर पिटाई और बिना महिला पुलिस कर्मियों के गिरफ्तारी को सरकार की निर्लज्जता करार दिया |

डॉ. रमेश दीक्षित ने कहा कि सरकार चला रही पार्टी के मुखिया ज़रा भी लोकतान्त्रिक होते तो उन बेटियों को पुलिस से छुड़वा कर उनकी तकलीफ सुनते और उसका समाधान करते | पर कागज़ में बेटी बचाओ अभियान वालो ने बेटियों को सडको पर बेहरहमी से अपराधियों की तरह पीटा |

डॉ. रमेश दीक्षित ने जारी बयान में कहा कि पिछले दिनों योगी के लखनऊ विश्वविद्यालय आने पर छात्रो के फंड से कार्यक्रम आयोजित किये जाने पर मुख्यमंत्री योगी को काले झंडे दिखाए जाने पर गिरफ्तार की गयी पूजा को आज लखनऊ स्थित पॉलिटेक्निक चौराहे से गिरफ्तारी की निंदा की और मांग की बेक़सूर छात्रो को तत्काल रिहा किया जाए |

डॉ. रमेश दीक्षित ने सरकार से सवाल भी किया कि किन कारणों से पूजा को गिरफ्तार किया गया जबकि निर्दोष छात्रा अपने मित्र से मिलने जा रही थी | डॉ. रमेश दीक्षित ने कहा कि संसदीय परम्पराओं और समर्ध लोकतंत्र में असहमति जाताने और विरोध करने का अधिकार होता है संविधान भी इसकी गारेंटी देता है पर इस निजाम ने आघोषित इमरजेंसी जैसे हालात बना दिया है |

Lucknow, Uttar Pradesh, India