भारत का युवा वर्ग तैयार है एक विश्वव्यापी नई युवा क्रांति के लिए!

भारत का युवा वर्ग तैयार है एक विश्वव्यापी नई युवा क्रांति के लिए!

(1) भारत का युवा वर्ग तैयार है एक विश्वव्यापी नई युवा क्रांति के लिए :-

भारत विश्व का सबसे बड़ा प्रजातांत्रिक देश है। आज भारत में दूसरे देशों की तुलना में सबसे ज्यादा युवा हैं। युवा वर्ग वह वर्ग होता है जिसमें 14 वर्ष से लेकर 40 वर्ष तक के लोग शामिल होते हैं। आज भारत देश में इस आयु के लोग सबसे बड़ी संख्या में मौजूद है। एक आंकड़े के अनुसार भारत विश्व का सबसे बड़ा युवा देश है। यह एक ऐसा वर्ग है जो शारीरिक एवं मानसिक रूप से सबसे ज्यादा ताकतवर है। जो अपने परिवार, समाज, देश तथा विश्व के विकास के लिए हर संभव प्रयत्न करते हैं। आज भारत देश में 75 प्रतिशत युवा पढ़ना-लिखना जानता है। आज भारत ने अन्य देशों की तुलना में अच्छी खासी प्रगति की है। इसमें सबसे बड़ा योगदान शिक्षा का है। आज भारत का युवा अच्छी से अच्छी शिक्षा पा रहा है। उन्हें पर्याप्त रोजगार के अवसर मिल रहे हैं। आज भारत का युवा वर्ग हर क्षेत्र में ऊंचाईयों को छूना चाहता है। भारत का युवा वर्ग तैयार है एक विश्वव्यापी नई युवा क्रांति के लिए।

(2) युवा पीढ़ी के संबंध में कुछ महापुरूषों के प्रेरणादायी विचार :-

फ्रेंज कैफ्का- यौवन खुशहाल है क्योंकि उसके अन्दर जीवन में कुछ कर गुजरने का जुनून है। जो कोई भी यह क्षमता रखता है वह कभी बूढ़ा नहीं होता। जेस सी. स्कोट- एक फिट स्वस्थ्य शरीर यही सबसे अच्छा फैशन स्टेटमेंट हैं। ओगडेन नैश- आप केवल एक बार युवा होते हैं, पर आप अनिश्चित काल के लिए अपरिपक्व रह सकते हैं। चौड सग- जीवन के हर पल प्रभु कार्य में लगायें तुम इस क्षण जितने प्रभु कार्य के लिए युवा हो उतने फिर कभी नहीं होगे। ऑस्कर वाइल्ड- युवा रहने का राज है कभी अनुचित भावना मत रखो। ऐल्बर्ट आइंस्टीन - मैं उस एकांत में रहता हूँ जो युवावस्था में तकलीफ देह है, लेकिन परिपक्वता के दिनों में स्वादिष्ट।

(3) शिक्षा सबसे अच्छी मित्र है, एक शिक्षित व्यक्ति हर जगह सम्मान पाता है :-

मार्क ट्वेन- जार्ज वाशिंगटन एक लड़के के रूप में युवाओं की आम उपलब्धियों से अनभिज्ञ थे वो झूठ भी नहीं बोल सकते थे। चाणक्य- शिक्षा सबसे अच्छी मित्र है एक शिक्षित व्यक्ति हर जगह सम्मान पाता है। शिक्षा सौंदर्य और यौवन को परास्त कर देती है। कर्ट कोबैन- युवाओं का कर्तव्य है शैतानी सभ्यता को आध्यात्मिक सभ्यता द्वारा ललकारना। अरस्तु- युवावस्था में डाली गयी अच्छी आदतें जीवन में भारी परिवर्तन लाती हैं। अरस्तु- युवा आसानी से धोखा खा जाता हैं क्योंकि वह उम्मीद करने में बहुत तेज होता हैं। रॉबर्ट फ्रॉस्ट- मैं भविष्य जानने के लिए युवाओं को पढ़ाने जाता हूँ। फ्रेडरिक स्किलर- मानव जाति की सेवा के सपनां के साथ सच्चे बने रहे। रविन्द्रनाथ टैगोर- आयु सोचती है, जवानी करती है। मौरिस चेवालिएर- एक आरामदायक बुढ़ापा अच्छी तरह से बितायी गयी जवानी का इनाम होता है। डा. अब्दुल कलाम- युवाओं को नौकरी खोजने वाले की जगह नौकरी पैदा करने वाले बनाने की आवश्यकता है। अमेरिका के सुप्रसिद्ध बेसबाल प्लेयर सैम ईविंग का मानना है कि सफलता का एक आसान फार्मूला है, आप अपना सर्वोत्तम दीजिए और हो सकता है लोग उसे पसंद कर लें।

(4) युवा समृद्धि के संरक्षक हैं :-

मारी वोन एस्चेंबैक- हम जवानी में सीखते हैं और हम बुढ़ापे में समझते हैं। कार्ल जंग- बढ़ती उम्र के साथ जवानी का उत्साह हमेशा हल्का नहीं पड़ता कभी-कभी यह और बढ़ जाता है। स्तानिस्लाव लेस- यौवन प्रकृति का उपहार है लेकिन उम्र कला की एक कृति है। बेंजामिन डिस्रेलि- युवा समृद्धि के संरक्षक हैं। बेट्टी फ्रीडैन- बूढ़ा होना जवानी का खोना नहीं बल्कि नए अवसर और ताकत का मंच है। मार्कस टुलीयस सिसरो- आतुरता युवाओं की है बुद्धिमानी वृद्धों की। स्कॉट फिट्जगेराल्ड- एक लेखक को अपनी पीढ़ी के युवाओं के लिए अगली पीढ़ी के आलोचकों के लिए और उससे भी बाद की पीढ़ी के अध्यापकों के लिए लिखना चाहिए। यूरीपाईड्स- जो कोई भी अपनी जवानी में सीखने पर ध्यान नहीं देता अपना अतीत खो देता है और भविष्य के लिए मर चुका होता है। जोस रिजाल- युवा हमारे भविष्य की आशा हैं। बेंजामिन डिस्रेलि- लगभग हर एक चीज जो महान है युवाओं द्वारा की गयी है।

- डा0 जगदीश गांधी, शिक्षाविद् एवं संस्थापक-प्रबन्धक

सिटी मोन्टेसरी स्कूल, लखनऊ