जेट एयरवेज को मिली सात मार्गों की स्वीकृति

जेट एयरवेज को मिली सात मार्गों की स्वीकृति

लखनऊ से क्षेत्रीय कनेक्टिविटी (उड़ान) का परिचालन कल से

लखनऊ: प्रीमियर इंटरनेशनल एयरलाइन जेट एयरवेज राज्य की राजधानी लखनऊ से 14 जून 2018 से अपना उड़ान परिचालन आरंभ कर रहा है। आज यहा लखनऊ में इस आशय की जानकारी अमित अग्रवाल, डीप्टी सीईओ, व सीएफओ , जेट एयरवेज ने दी । उन्होंने उड़ान के बारे मेें जानकारी देते हुए बताया कि इस एयरलाइन को सरकार की रीजनल कनेक्टिविटी स्कीम (आरसीएस) के तहत सात (7) मार्ग की स्वीकृति मिली है। इनमें से पाँच (5) मार्गों यानी लखनऊ-इलाहाबाद-लखनऊ, पटना-इलाहाबाद- पटना, नागपुर-इलाहाबाद-नागपुर, इंदौर-इलाहाबाद-इंदौर और दिल्ली-नासिक-दिल्ली के लिए इसी सप्ताह 14 से 16 जून 2018 के बीच परिचालन आरंभ होगा। लखनऊ, बरेली और दिल्ली को जोड़ने वाले बाकी दो (2) आरसीएस मार्गों पर परिचालन तब आरंभ होगा जब बरेली एयरपोर्ट सिविल परिचालन के लिए तैयार हो जायेगा।

जेट एयरवेज की उद्घाटन आरसीएस सेवा पावन नगरी इलाहाबाद को दो राज्यों की राजधानी - लखनऊ और पटना से जोडे़गी, जिसकी हर सप्ताह में तीन उड़ानें होंगी। इस एयरलाइन की दूसरी उत्तर प्रदेश स्थित आरसीएस सेवा 16 जून 2018 को आरंभ होगी जो हर सप्ताह तीन उड़ानों के साथ इलाहाबाद को नागपुर और इंदौर से जोड़ेगी।

पच्चीस वर्ष पहले भारत में विश्व स्तरीय यात्रा अनुभव ‘जाॅय आॅफ फ्लाईंग’ के साथ संपर्क मुहैया करने के लिए जेट एयरवेज की सेवा आरंभ की गई थी। भारत में एटीआर विमानों के परिचालन को बढ़ावा देने के बाद मुख्यतः आॅनबोर्ड एटीआर विमान की इन नई उड़ानों से जेट एयरवेज को अभी तक विमान सेवा से वंचित क्षेत्रों और अल्प सेवाप्राप्त हवाईअड्डों की पूर्ण क्षमताओं का लाभ उठाने में मदद मिलेगी। उड़ान योजना एक शानदार पहल है जिससे विमानन क्षेत्र के फायदे हासिल करने, भारत के विशाल विस्तार और विभिन्न भूभागों तक पहुँचने में आसानी होगी।

14 जून 2018 से आरंभ के साथ जेट एयरवेज की उड़ान संख्या 9डब्लू 3555 लखनऊ से 0650 बजे (आइएसटी) प्रस्थान करेगी और 0755 बजे (आइएसटी) इलाहाबाद पहुँचेगी। फिर उड़ान संख्या 9डब्लू 3558 इलाहाबाद से पटना के लिए 0820 बजे (आइएसटी) प्रस्थान करेगी और 0935 बजे (आइएसटी) पटना पहुँचेगी। वापसी में उड़ान संख्या 9डब्लू 3557 पटना से 1010 बजे (आइएसटी) प्रस्थान करके 1145 बजे (आइएसटी) इलाहाबाद पहुँचेगी। फिर इलाहाबाद से उड़ान संख्या 9डब्लू 3556 भारतीय समय के अनुसार 1230 बजे प्रस्थान करेगी और 1350 बजे लखनऊ पहुँचेगी। इस मार्ग पर जेट एयरवेज एटीआर विमान का प्रयोग होगा जिसमें 72 अतिथियों के बैठने की जगह है।

जेट एयरवेज 16 जून 2018 से नागपुर-इलाहाबाद-इंदौर मार्ग पर अपना परिचालन आरंभ करेगा। जेट एयरवेज की उड़ान संख्या 9डब्लू 3553 भारतीय समय के अनुसार 0945 बजे नागपुर से प्रस्थान करेगी और 1150 बजे (आइएसटी) इलाहाबाद पहुँचेगी। वहाँ से आगें के लिए उड़ान संख्या 9 डब्लू 3552 इलाहाबाद से 1230 बजे (आइएसटी) प्रस्थान करके 1440 बजे (आइएसटी) इंदौर पहुँचेगी। वापसी यात्रा में उड़ान संख्या 9डब्लू 3551 इंदौर से 1510 बजे (आइएसटी) प्रस्थान करेगी और 1720 बजे (आइएसटी) इलाहाबाद पहुँचेगी। इसकी वापसी यात्रा उड़ान संख्या 3554 से होगी इलाहाबाद से 1745 बजे (आइएसटी) प्रस्थान करेगी और 1945 बजे (आइएसटी) नागपुर पहुँचेगी।

जेट एयरवेज नई दिल्ली और नासिक के बीच भी सप्ताह में तीन बार उड़ान सेवा मुहैया करेगा जिसकी शुरुआत 15 जून 2018 से होगी। उड़ान संख्या 9डब्लू 3565 नई दिल्ली से 1200 बजे (आइएसटी) उड़ान भरेगी और 1405 बजे (आइएसटी) नासिक पहुँचेगी। अपनी वापसी यात्रा में उड़ान संख्या 9डब्लू 3566 का नासिक से 1435 बजे (आइएसटी) प्रस्थान होगा और 1625 बजे (आइएसटी) नई दिल्ली पहुँच जाएगी। इस मार्ग पर एक बोईंग 737 विमान की सेवा ली जाएगी।

उड़ान योजना के दिशानिर्देश के अंतर्गत एटीआर विमान की 50 (36) सीटें और बोईंग737 की 40 सीटें आरक्षित होंगी। अतिथि किफायती किराए का लाभ उठा सकते हैं जो 1177 रुपये (इलाहाबाद-लखनऊ); 1216 रुपये (इलाहाबाद-पटना); 1690 रुपये (इलाहाबाद-नागपुर) और 2230 रुपये (इलाहाबाद-इंदौर) से आरंभ होते हैं। इलाहाबाद से दोतरफा जुड़वां आरसीएस उड़ानों की बदौलत शुक्रवार को छोड़कर प्रति सप्ताह छः दिन इस शहर को संपर्क की सुविधा उपलब्ध होगी। देश के बाकी हिस्सों की तरह, उत्तर प्रदेश से विमानन यातायात में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। असल में गत तीन वर्षों के दौरान उत्तर प्रदेश से दुनिया के बाकी हिस्सो के लिए हवाई यातायात में 24 तक की बढ़ोतरी हुई है। वर्ष 2017 के लिए भारत से खाड़ी के देशों में जाने वाले कुल यात्रियों की संख्या के संदर्भ में उत्तर प्रदेश नम्बर-1 राज्य है। इसी तरह, घरेलू संपर्क के मामले में 62 (गत 3 वर्ष) बढ़ोतरी के साथ उत्तर प्रदेश का स्थान और भी बढ़िया है। इन उड़ानों की पेशकश की बदौलत अतिथिगण अब जेट एयरवेज के घरेलू और अंतरराष्ट्रीय दोनों नेटवर्क पर सुविधाजनक संपर्क प्रस्ताव के साथ अनेक शहरों की यात्रा कर सकते हैं। इलाहाबाद 10 वर्षों के बाद जेट एयरवेज के घरेलू नेटवर्क से इसके 46वें गंतव्य के रूप में जुड़ रहा है। दूसरी ओर नासिक इसका 47वाँ गंतव्य होगा। संपर्क सामथ्र्य के अलावा इन नई उड़ानों के परिणामस्वरूप उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र राज्यों में व्यापार और पर्यटन का भी विकास होगा। जेट एयरवेज ने दो दशक पहले 1998 में लखनऊ से अपना परिचालन आरंभ किया था और आज यह शहर का दूसरा सबसे बड़ा परिचालन संचालित कर रहा है जिसमें लखनऊ से/के लिए 144 साप्ताहिक उड़ानें उपलब्ध हैं। जेट एयरवेज लखनऊ से दिल्ली में अपने हब होकर 17 घरेलू और 5 अंतरराष्ट्रीय दोतरफा उड़ान संपर्क उपलब्ध कराता है। यह हवाई कंपनी अपने मुम्बई हब के रास्ते भी 9 गंतव्यों के लिए दोतरफा संपर्क उड़ानें (7 घरेलू और 2 अंतरराष्ट्रीय) मुहैया करती है। अभी जेट एयरवेज की दैनिक उड़ानें लखनऊ और अहमदाबाद, बेंगलुरु, चंडीगढ़, चेन्नै, दिल्ली, हैदराबाद, इंदौर, जयपुर और अबु धाबी के बीच परिचालित हो रही हैं। नई उड़ानें इलाहाबाद से/तक यात्रा करने वाले अतिथियों के लिए फायदेमंद साबित होंगी, जिनमें इलाहाबाद से नागपुर/इंदौर/लखनऊ होकर मुम्बई के लिए दोतरफा संपर्क उपलब्ध हैं। इसी तरह, इन उड़ानों में इलाहाबाद से इंदौर/पटना होते हुए बंेगलुरु के लिए दोतरफा संपर्क उपलब्ध है। वैसे ही, इलाहाबाद को जेट एयरवेज के मुम्बई, दिल्ली और बेंगलुरु स्थित हब से और लखनऊ होते हुए चेन्नै, हैदराबाद, पुणे और जयपुर शहरों से भी जोड़ा जाएगा। इसके अलावा अतिथियों को लखनऊ से अबु धाबी होकर यूरोप, उत्तरी अमरीका, अफ्रीका, मध्य पूर्व और खाड़ी के देशों में अनेक अंतरराष्ट्रीय गंतव्यों से जुड़ने का भी विकल्प उपलब्ध होगा जिससे कि भारत के नए उभरते महानगरों से विश्वव्यापी संपर्क में वृद्धि होगी।