डाक टिकट के लिए धन्यवाद, भारत रत्न भी दें पीएम: दीपक

डाक टिकट के लिए धन्यवाद, भारत रत्न भी दें पीएम: दीपक

समाजवादियों ने टिकट खरीद कर बहिष्कार वापस लिया

लखनऊ: समाजवादी चिन्तक व चिन्तन सभा के अध्यक्ष दीपक मिश्र की अगुवाई में समाजवादियों एवं बुद्धिजीवियों ने हजरतगंज स्थित प्रधान डाक-घर से लोहिया पर जारी डाक-टिकट खरीद एवं प्रधानमंत्री को धन्यवाद पत्र भेजकर डाक-सेवाओं के सतत्-सविनय बहिष्कार के वापसी की घोषणा की। इस अवसर पर दीपक मिश्र ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को डा० राम मनोहर लोहिया पर 5 रुपए का प्रकार्यात्मक डाक-टिकट जारी करने और व्यापक मात्रा में चलन हेतु उपलब्ध कराने के लिए धन्यवाद देते हुए कहा कि राममनोहर लोहिया के योगदान के मद्देनजर यह सम्मान काफ़ी कम है। उन्होंने लोहिया महाप्रयाण अर्द्धसदी के उपलक्ष्य में लोहिया को भारत रत्न देने की मांग दोहराई। श्री मिश्र ने बतलाया कि लोहिया पर 5 रुपए के गैर-स्मारक डाक टिकट की मांग को लेकर हम समाजवादी 2014 से सत्याग्रही प्रतिकार के तहत डाक-सेवाओं का सविनय बहिष्कार कर रहे हैं। अब पूरे देश के डाकघरों में लोहिया पर जारी प्रेरक डाक टिकट पहुंच चुका है, इसलिए बहिष्कार का औचित्य नहीं रहा। श्री मिश्र ने केन्द्र सरकार से डा० राममनोहर लोहिया को सर्वोच्च नागरिक सम्मान “भारत-रत्न“ देने की अपील की ताकि राजनीति की ऋषि परम्परा को गुणात्मक ताकत मिले। सत्ता से अधिक सिद्धांत को महत्व देने वाले नेताओं को सम्मान देने से राजनीति स्वच्छ होगी। महात्मा गाँधी के बाद राममनोहर लोहिया ही एक मात्र ऐसे नेता हैं जिन्होंने भारत के बाहर सत्याग्रह कर गिरफ्तारी दी व दुनिया के जन-मानस को प्रभावित किया। प्रधानमंत्री कई मंचों से अनेकों बार लोहिया को अपना आदर्श व प्रेरणास्रोत बता चुके हैं, ऐसे में “भारत-रत्न“ से विभूषित न करना समझ से परे है। लोहिया की महाप्रयाण अर्द्धसदी के उपलक्ष्य में समाजवादी चिन्तन सभा पूरे वर्ष लोहिया के लिए सघन हस्ताक्षर अभियान और सिद्धान्तनिष्ठ राजनीति पर बहस चलाएगी। शिक्षक नेता व लुआक्टा के अध्यक्ष डा० मनोज पाण्डेय ने कहा कि लोहिया ने भारतीय मेधा का परचम पूरी में फहराया है। उन्हें “भारत-रत्न“ देने से वैचारिक राजनीति करने वालों एवं बुद्धिजीवियों सम्मान बढ़ेगा।

इस अवसर पर अग्रवाल सभा के अध्यक्ष राजेश अग्रवाल, युवा नेता शशांक शर्मा, पुनीत पाण्डेय, अभिषेक तिवारी “बब्लू“, पी.के. चतुर्वेदी, राम चन्द्र पाण्डेय, राम कुमार यादव समेत कई समाजवादी एवं बुद्धिजीवी उपस्थित रहे।

Lucknow, Uttar Pradesh, India