तीन साल साल में श्रेणी दो के 16 आवास नही बना पाया लोनिवि

तीन साल साल में श्रेणी दो के 16 आवास नही बना पाया लोनिवि

ईएनएसी आवास के जीर्णोद्वार में खर्च हो रही भारी रकम,संघ ने दर्ज कराई नाराजगी

लखनऊ। मुख्यालय परिसर में ही बन रही लोनिवि चालकों के 16 आवास का निर्माण लोक निर्माण विभाग के अफसरों की उदासीनता और लापरवाही का प्रतीक बन गए है। तीन साल होने के जा रहे है और श्रेणी दो के इन आवासों को अब तक पूरा नही किया जा सका है। लोक निर्माण विभाग में पद और पॉवर का उपयोग निजी हित में करने से विभागीय मुखिया के प्रति चालक आक्रोषित है। एक तरफ वर्षो बाद आवास विहीन चालकों के लिए बन रहे 16 आवासों के बनाए जाने में जहॉ कछुआ गति अपनाते हुए पिछले तीन माह से काम रूका पड़ा है वही लोनिवि परिसर मेें बने विभागाध्यक्ष के भारी भरकम आवास में तोड़फोड कर पुर्ननिर्माण का कार्य युद्ध स्तर पर किया जा रहा है। वर्ष 1999 में स्वीकृत चालकों के आवासों का निर्माण अब तक पूरा न होने से चालकों में नाराजगी व्याप्त है। आवासों के निर्माण में की जा रही अनावश्यक देरी से नाराज राजकीय वाहन चालक संघ लोक निर्माण विभाग ने विभागाध्यक्ष की अनदेखी पर नाराजगी जताई है। राजकीय वाहन चालक संघ का आरोप है कि विभागाध्यक्ष की अनदेखी के कारण दो बार रिवाइज हुए स्टीमेट वाले इस निर्माण को पुनः रिवाइज करने के लिए लोनिवि परिसर में बनने वाले चालकों के 16 आवासों के निर्माण में देर की जा रही है।

राजकीय वाहन चालक संघ लोक निर्माण विभाग की बैठक के उपरान्त संघ के अध्यक्ष त्रिलोक सिंह एवं महामंत्री रामफेर पाण्डेय ने बताया कि मुख्यालय स्तर पर विभागीय चालकों के आवासों की भारी कमी है। संघ के प्रयासों से वर्ष 1998 में 20 श्रेणी दो के आवासों का प्रस्ताव स्वीकृत हुआ था। जमीन की उपलब्धता के आधाार पर 1999 में परिसर के पास 16 श्रेणी दो के आवास के लिए 67.30 लाख का आगणन भेजा गया था। इसके बाद पुनः स्टीमेट रिवाईज कर 28 फरवरी 2014 को दो मंजिल के 16 श्रेणी दो के आवासों के लिए 193.42 लाख का स्टीमेट भेजा गया और वर्ष 2015 के अंत में इन आवासों का काम कछुआ गति से शुरू किया गया। लगभग दो वर्ष तक चले इस निर्माण कार्य के बाद जब आवासों को अंतिम रूप देने का समय आया पिछले तीन माहों से काम रूका पड़ा है। उधर वर्ष 2009-10 में सबसे लम्बे समय तक विभागीय ईएनसी रहे इं. टी.राम के आवास में लाखों रूपये खर्च कर 2009-10 में ईएनसी आवास जीर्णोद्वारा हुआ था अब फिर से कई करोड़ खर्च कर तोड़फोड़ कर पुर्ननिर्माण का कार्य जोरों पर चल रहा है। इस तरह से अपनी अनदेखी से नाराज चालक संघ के पदाधिकारियों ने कहा कि उनकों ईएनसी आवास पर खर्च हो रहे पैसे और मनमाने निर्माण से कोई लेना देना नही है लेकिन विभागाध्यक्ष के नाते एवं संघ के बार बार लिखित अनुरोध के बावजूद चालकों के लिए बन रहे आवासों की प्रगति की समीक्षा न करने से चालक आक्रोषित है। उनका आरोप यह भी है कि विभागाध्यक्ष कार्यालय के चंद कदमों मे बने चालकों के अधूरे आवासों का विभागाध्यक्ष ने आज तक निरीक्षण नही किया।

Lucknow, Uttar Pradesh, India