पुणे टेस्ट में कंगारुओं की पकड़ मज़बूत

पुणे टेस्ट में कंगारुओं की पकड़ मज़बूत

पुणे: जब विश्व की दो टॉप टीमें भिड़ती हैं, तो मुकाबला रोमांचक होने की पूरी संभावना रहती है. भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच 4 मैचों की टेस्ट सीरीज के तहत पुणे में खेले जा रहे पहले टेस्ट मैच में अब तक कुछ ऐसा ही देखने को मिला है. पहले दिन जहां टीम इंडिया के गेंदबाजों ने दबदबा बनाया था, वहीं दूसरे दिन ऑस्ट्रेलिया ने पलटवार करते हुए टीम इंडिया को 105 रन पर ही समेट दिया. ऑस्ट्रेलिया ने पहली पारी में 260 रन बनाए थे. इस प्रकार पहली पारी के आधार पर उसे टीम इंडिया पर 155 रनों की बढ़त हासिल हो गई. दूसरी पारी में बल्लेबाजी करने उतरी ऑस्ट्रेलियाई टीम ने दिन का खेल खत्म होने तक 4 विकेट पर 143 रन बना लिए. स्टीव स्मिथ (59) और मिचेल मार्श (21) नाबाद लौटे. कंगारू टीम को कुल 298 रन की बढ़त हासिल हो गई है और उसका पलड़ा भारी नजर आने लगा है. आर अश्विन ने डेविड वॉर्नर (10 रन), शॉन मार्श को (0) और पीटर हैंड्सकॉम्ब (19) को आउट करके तीन सफलताएं दिलाईं, जबकि जयंत यादव को एक विकेट मिला. अश्विन ने एक रिकॉर्ड के मामले में महान कपिल देव और अनिल कुंबले को पीछे छोड़ दिया है.

टीम इंडिया ने बल्लेबाजी तो खराब की ही, उसकी फील्डिंग भी घटिया रही, जिससे स्मिथ को कई जीवनदान (23, 29 और 37 रन पर) मिले. उनके दो कैच सब्स्टीट्यूट फील्डर अभिनव मुकुंद ने छोड़े, तो एक कैच मुरली विजय ने टपकाया. स्मिथ के अलावा मैच रेनशॉ को भी जीवनदान मिला. उन्होंने स्मिथ के साथ 52 रन की साझेदारी करके ऑस्ट्रेलिया को मजबूत बढ़त दिलाने में बड़ी भूमिका निभाई.

टीम इंडिया की बल्लेबाजी के स्तर का आप अंदाजा इसी बात से लगा सकते हैं, कि उसके 8 बल्लेबाज दहाई का आंकड़ा भी नहीं छू सके. लोकेश राहुल ने सबसे अधिक 64 रन बनाए, तो अजिंक्य रहाणे ने 13 और मुरली विजय ने 10 रन बनाए. कप्तान कोहली से बड़ी उम्मीद थी, लेकिन वह खाता भी नहीं खोल सके और मिचेल स्टार्क का शिकार बन गए.