पोते ने ही चुराई थी  बिस्मिल्लाह खां की शहनाई

पोते ने ही चुराई थी बिस्मिल्लाह खां की शहनाई

वाराणसी। उस्ताद बिस्मिल्लाह खां की पांच बेशकीमती शहनाई चार दिसम्बर को उनके बेटे काजिम के दालमंडी चाहमामा स्थित आवास से चोरी हो गयी। घटना के समय काजिम सपरिवार हड़हासराय स्थित पुश्तैनी आवास पर गये थे।

चार दिसम्बर की रात वह चाहमामा स्थित घर लौटे तो ताला टूटा मिला था। अंदर बाक्स में रखी चांदी की पांच शहनाई गायब थी। इसके अलावा इनायत अवार्ड में उस्ताद को मिली चांदी की तश्तरी के साथ सोने के दो कंगन भी गायब थे।

काजिम ने चौक थाने में अज्ञात बदमाशों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करायी थी। एक महीने बाद हुई बरामदगी पुलिस को इस मामले में कोई खास सफलता नहीं मिली तो एसएसपी नितिन तिवारी ने शहनाई बरामद करने के लिए एसटीएफ से संपर्क किया। एसएसपी एसटीएफ अमित पाठक ने वाराणसी यूनिट की टीम को खुलासे के लिए लगाया। टीम ने अमेठी से तीन लोगों को गिरफ्तार कर शहनाई बरामद की।

चार शहनाई बरामद एसटीएफ ने उस्ताद की चोरी गई शहनाइयों में चार की बरामदगी कर ली है। इस मामले में उस्ताद के सगे पोते नजर-ए-आलम उर्फ शादाब, पियरी के दो सराफा कारोबारी सुजीत सेठ और शंकर लाल सेठ को गिरफ्तार किया है। इसके अलावा एक किलो चांदी भी एसटीएफ टीम के हाथ लगी।

India