स्मृति के लाइव टेलीकास्ट और विधायक के जुलूस पर मुकदमा

स्मृति के लाइव टेलीकास्ट और विधायक के जुलूस पर मुकदमा

वरूण के शिलापट पर भी एफआईआर

सुलतानपुर। चुनाव आयोग की सख्ती का असर साफतौर पर देखा जा रहा है, लेकिन जिला प्रशासन चित भी मेरी पुट भी मेरी की कहावत पर चल रहा है। आचार संहिता उल्लघंन में कददावर नेताओं पर मेहरबानी दिखा रही है, लेकिन छुटभैया नेताओं पर शिकंजा कसने में कोई कोताही नही बर्ती जा रही है। शनिवार को तीन मुकदमें दर्ज हुए। जिसमें हाई प्रोफाइल नेताओं को मुल्जिम नही बनाया है। चर्चा है कि जिला प्रशासन अपने सम्बंध भी मेनटेन रखना चाहती है और चुनाव आयोग की नजर में अंक भी बढ़ाना। जिला प्रशासन ने नगर कोतवाली में स्मृति ईरानी के लाइव टेलीकास्ट उड़ान कार्यक्रम में 50-60 अज्ञात पर आचार संहिता उल्लघंन का मुकदमा दर्ज किया गया है। यह कार्यक्रम भाजपा क्षेत्रीय उपाध्यक्ष सुमन सिंह, उपमा शर्मा के नेतृत्व में शहर के सभागार में आयोजित किया गया था। बावजूद इसके किसी को नामजद नही किया गया है। शुक्रवार को ही लम्भुआ विधायक संतोष पांडेय ने फूल-मालाओं के साथ जुलूस निकाला था। जुलूस मामले में प्रशासन ने लम्भुआ, कोतवाली देहात और चादा में मुकदमा दर्ज कराया है। सिर्फ एक सपा विधानसभा अध्यक्ष सतपाल यादव को ही नामदज किया गया है। सभी मामलों में विधायक को क्लीन चिट मिली है। जबकि जुलूस की अगुवाई विधायक ने ही किया था। इसी तरह का मिलता-जुलता मामला कांग्रेस पार्टी का भी है। शनिवार को जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष कृष्ण कुमार मिश्रा की अगुवाई में हौसला प्रसाद भीम, अभिषेक सिंह राणा, विनय विक्रम सिंह, सिराज अहमद समेत दर्जनों लोगो ने नोटबंदी के विरोध में धरना प्रदर्शन कर जिलाधिकारी को ज्ञापन सौपा था। ज्ञापन में सभी का नाम होने के बावजूद भी 80-90 अज्ञात कांग्रेसियों पर ही मुकदमा दर्ज किया गया। शहर के तिकोनिया पार्क में जदयू जिलाध्यक्ष ओमप्रकाश उपाध्याय के नेतृत्व में संघ का चुनाव आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम की भी अनुमति नही ली गयी थी। इस प्रकरण में जदयू जिलाध्यक्ष ओमप्रकाश उपाध्याय, जिला छात्र संघ अध्यक्ष अमित सिंह समेत कई अज्ञात नेताओं पर मुकदमा दर्ज किया गया है। उधर बल्दीराय पुलिस ने भाजपा सांसद वरूण गांधी का शिलापट लगाए जाने के मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। जिला प्रशासन की इस दोहरी नीति की चर्चा जोरो पर है। लोगों का कहना है कि कददावर नेताओं पर जिला प्रशासन रहमदिली दिखा रहा है।

नगर कोतवाली प्रभारी पंकज वर्मा ने बताया कि मुकदमा दर्ज किया गया है। जिन लोगो का नाम अज्ञात में है उनका नाम विवेचना में शामिल कर लिया जाएगा।

Uttar Pradesh, India