भारत ज़िम्बाब्वे से हारते हारते बचा सीरीज

भारत ज़िम्बाब्वे से हारते हारते बचा सीरीज

अंतिम टी-20 में 3 रनों से हराकर बचाई लाज

हरारे : टीम इंडिया के जिम्बाब्वे दौरे का अंतिम टी-20 मैच हरारे में खेला गया, जिसमें भारत ने जिम्बाब्वे को 3 रन से हराकर सीरीज पर 2-1 से कब्जा कर लिया। जिम्बाब्वे की टीम 139 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए 20 ओवर में 6 विकेट पर 135 रन ही बना पाई। शानदार फिफ्टी बनाने वाले टीम इंडिया के केदार जाधव (42 गेंद, 58 रन, 7 चौके, एक छक्का) को मैन ऑफ द मैच चुना गया। भारत की ओर से गेंदबाजी में बरिंदर सरां ने 4 ओवर में 31 रन देकर 2 विकेट और धवल कुलकर्णी ने 4 ओवर में 23 रन देकर 2 विकेट झटके। अक्षर पटेल और युजवेंद्र चहल को एक-एक विकेट मिला। जिम्बाब्वे को जीत के लिए अंतिम ओवर में 21 रन चाहिए थे। गेंदबाजी की कमान तेज गेंदबाज बरिंदर सरां के हाथ में थी। सरां की पहली गेंद पर तिमीसेन मारूमा ने छक्का लगाकर टीम इंडिया की सांसे थमा दीं। इसके बाद दूसरी गेंद वाइड हो गई, जिसमें एक रन बना। एक बार फिर दूसरी ही गेंद नो-बॉल हो गई और फ्री हिट मिल गई, लेकिन मारूमा फायदा नहीं उठा पाए। तीसरी गेंद पर कोई रन नहीं बना। चौथी गेंद पर मारूमा ने एक रन लिया। अब जिम्बाब्वे को जीत के लिए दो गेंदों में 8 रन चाहिए थे। पांचवीं गेंद पर एल्टन चिगुम्बुरा ने चौका लगाकर एक बार फिर जीत की उम्मीद जगा दी। सरां ने अंतिम गेंद फुलटॉस फेंकी लेकिन चिगुम्बुरा (16) फायदा नहीं उठा सके और युजवेंद्र चहल ने लपक लिया। इस प्रकार जिम्बाब्वे का सीरीज जीतने का सपना टूट गया। तिमीसेन मारूमा (13 गेंदों में 23 रन, एक चौका, 2 छक्के) नाबाद लौटे। टीम इंडिया को पहली सफलता तेज गेंदबाज बरिंदर सरां ने तीसरे ओवर में चामू चिभाभा (5) को युजवेंद्र चहल के हाथों कैच कराकर दिलाई। इसके बाद हैमिल्टन मासकाद्जा और वुसीमुजी सिबांदा ने आठवें ओवर तक कोई विकेट नहीं गिरने दिया और दूसरे विकेट के लिए 40 रन की साझेदारी कर ली। नौवें ओवर में स्पिनर अक्षर पटेल ने भारत को दूसरी सफलता दिलाकर कुछ राहत पहुंचाई। पटेल ने मासकाद्जा (28) को पगबाधा आउट किया। फिर तेज गेंदबाज धवल कुलकर्णी ने 11वें ओवर में जमकर खेल रहे सिबांदा (28) को चलता कर दिया। जिम्बाब्वे की ओर से पीटर मूर ने 21 गेंदों में 26 रन की तेजतर्रार पारी खेली। उन्होंने 14वें ओवर में युजवेंद्र चहल की गेंदों पर दो छक्के जड़े। हालांकि इसी ओवर में एक और बड़ा शॉट लगाने के चक्कर में विकेट गंवा बैठे। उन्हें 21 गेंदों में 26 (0 चौके, 3 छक्के) के निजी स्कोर पर मनदीप सिंह ने लपका।