अखिलेश सरकार के खिलाफ आंदोलन चलायेगी भाजपा

अखिलेश सरकार के खिलाफ आंदोलन चलायेगी भाजपा

लखनऊ:  भारतीय जनता पार्टी किसान समस्याओं, राज्य में व्याप्त भ्रष्टाचार और कानून व्यवस्था के मोर्चे पर विफल होती अखिलेश सरकार के खिलाफ चरणवद्ध तरीके से आंदोलन चलायेगी। पार्टी प्रवक्ता विजय बहादुर पाठक ने कहा कि त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को पार्टी पूरे दम-खम से लड़ेगी। राज्य में चल रहे सदस्यता अभियान के दृष्टिगत 2 और 3 मार्च को सदस्यता का विवरण एकत्रित किये जाने हेतु जिलाशः बैठके होगी। 

आज पार्टी के राज्य मुख्यालय पर प्रदेश अध्यक्ष डा0 लक्ष्मीकांत बाजपेयी की अध्यक्षता में हुई प्रदेश पदाधिकारियों की बैठक में हुये निर्णेयों की जानकारी देते हुए प्रदेश प्रवक्ता विजय बहादुर पाठक ने बताया कि 1 करोड़ 18 लाख सदस्यता के आकड़े को छूतों भाजपा के सदस्यता अभियान को व्यापक जन समर्थन मिल रहा हैं। 1.5 करोड़ से ऊपर सदस्यता के लक्ष्य को प्राप्त करने में पार्टी के कार्यकर्ता पूरी तनमयता से लगे हुए है। इस समय विस्तारक और सर्वस्पर्शी सदस्यता अभियान में कार्यकर्ता जुटे हुए है। सदस्यता के दौरान बूथ की सदस्यता और हुई व्यक्तिगत सदस्यता के डाटा का एकत्रीकरण 2 और 3 मार्च को होने वाली जिला बैठकों में किया जायेगा। उन्होंने बताया कि अक्टूबर में होने वाले त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को पूरे दम-खम से पार्टी लड़ने जा रही है। पूरे प्रदेश में पंचायतों में रूचि रखने वाले कार्यकर्ताओं चिन्हित करके उन्हें विेशेष रूप से इस काम में लगाया जायेगा। क्षेत्रवार इसके लिए पदाधिकारियों को दायित्व दिये गये है पूरे प्रदेश में समन्यवय स्थापित करने के लिए पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष शिव प्रताप शुक्ल को लगातार प्रवास करने की जिम्मेदारी दी गयी है। 

श्री पाठक ने बताया कि राज्य में अखिलेश सरकार के नीतियों के कारण किसान बेहाल और परेशान है। लगातार सरकार के नीतियों के कारण गन्ना किसान अपने भुगतान के लिए संघर्ष कर रहा है। सरकार के कुप्रबन्ध के कारण चाहे खाद हो अथवा किसानों को मिलने वाले बीज और कृषि उपकरण सुलभ नहीं हो पा रहे हैं। किसान कर्ज माफी योजना छलावा साबित हुई आज भी प्रदेश में कर्ज के बोझ से किसान आत्महत्या कर रहा हैं। किसानों के उपज का लाभकारी मूल्य दिलाने के लिए किसान आयोग गठन के वादे थे पर हालात ये है कि चाहे धान हो अथवा गेहूॅ लगातार सरकारी खरीद के आकड़े घट रहे है। किसानों को अपनी उपज औने-पौने दामों पर बेचनी पड़ रही हैं। राज्य में भ्रष्टाचार का आलम यह है कि यादव सिंह प्रकरण में सरकार कटघरे में खड़ी है एक दागदार और आरोपी व्यक्ति को उच्च स्तर पर पदस्थ करके उसे अधिकार सम्पन्न बनाया गया। राज्य के मंत्री लोकायुक्त के जांच के घेरे में है। भ्रष्टाचार पर सपा-बसपा की मिली भगत हैं। कानून व्यवस्था के मोर्चे पर के सत्तारूढ़ होने बाद से ही अखिलेश सरकार कठघरे में रही है। सरकार दावे कानून व्यवस्था के ठीक होने के करती है पर वास्तविकता ये है कि सरकार के सारे विकास के दावों पर खराब कानून व्यवस्था के कारण ध्वस्त साबित हो रहे है।

भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि इन विषयों के साथ-साथ स्थानीय स्तर की समस्याओं को जोड़ते हुए मार्च के महीने में ब्लाक/तहसील स्तर पर प्रदर्शन होगा। अप्रैल माह में जिला स्तर पर इन समस्याओं को लेकर प्रदर्शन किये जायेगे तथा मई माह में मण्डल मुख्यालय पर प्रदर्शन किये जायेगे इसके बाद पार्टी राज्य स्तर पर भी इन समस्याओं पर अखिलेश सरकार का ध्यानाकृष्ट करने के लिए प्रदर्शन करेंगी। प्रदेश अध्यक्ष डा0 लक्ष्मीकांत बाजपेयी के अध्यक्षता में हुई बैठक में महामंत्री (संगठन) सुनील बंसल, सहित प्रदेश उपाध्यक्ष शिव प्रताप शुक्ला, हरद्वार दुबे, श्रीमती कृष्णा पासवान, आशुतोष टण्डन, अशोक कटारिया, सरिता भदौरिया, करण सिंह पटेल, प्रकाश शर्मा, प्रदेश महामंत्री स्वतंत्र देव सिंह, पंकज सिंह, रमापति शास्त्री, धर्मपाल सिंह, अनुपमा जायसवाल, प्रदेश मंत्री अश्वनी त्यागी, अनूप गुप्ता, वीरेन्द्र तिवारी, मधु मिश्र, नीलिमा कटियार, बेबीरानी मौर्या, समीर सिंह, आशा कबीर, प्रदेश कोषाध्यक्ष राजेश अग्रवाल मौजूद रहे।

Lucknow, Uttar Pradesh, India