मंगल ग्रह की एकतरफा यात्रा करेंगे तीन भारतीय

मंगल ग्रह की एकतरफा यात्रा करेंगे तीन भारतीय

वाशिंगटन : वर्ष 2024 में मंगल ग्रह की एकतरफा यात्रा पर कुल चार लोगों को भेजे जाने के लक्ष्य को लेकर चलाए जा रहे महत्वाकांक्षी निजी मिशन के अगले चरण के लिए जिन 100 आवेदनों को चुना गया है, उनमें तीन भारतीय - दो महिला और एक पुरुष - भी शामिल हैं।

हॉलैंड की नॉन-प्रॉफिट ऑर्गेनाइज़ेशन मार्स वन ने घोषित किया है कि एस्ट्रॉनॉट सेलेक्शन प्रोसेस (Mars One Astronaut Selection Process) के अगले चरण के लिए शुरुआती 2,02,586 आवेदनों में से कुल 100 लोगों को चुना गया है। प्रोजेक्ट का उद्देश्य मंगल ग्रह पर मानवों की बस्ती बसाना है, और धीरे-धीरे लगभग 40 लोग मंगल ग्रह पर स्थायी रूप से बसा दिए जाएंगे।

अंतिम चरण के लिए चुने गए लोगों को सात साल तक प्रशिक्षित किया जाएगा, और मार्स वन इन चार लोगों को वर्ष 2024 से भेजना शुरू करेगा। फिलहाल चुने गए 100 लोगों में 50 पुरुष और 50 महिलाएं हैं, जिनमें से 39 अमेरिकी महाद्वीपों को रहने वाले हैं, 31 यूरोपियन हैं, 16 लोग एशियाई देशों से हैं, सात अफ्रीका से और सात ही ओसियानिया से हैं।

चुने गए भारतीयों में से 29-वर्षीय तरनजीत सिंह भाटिया फिलहाल यूनिवर्सिटी ऑफ सेंट्रल फ्लोरिडा से कम्प्यूटर साइंस में डॉक्टरेट कर रहे हैं। अन्य दो भारतीय दुबई की रहने वाली 29-वर्षीय रितिका सिंह तथा केरल की रहने वाली 19-वर्षीय श्रद्धा प्रसाद हैं।