राजनाथ से मिले केजरीवाल

राजनाथ से मिले केजरीवाल

दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा देने की मांग की

नई दिल्ली : दिल्ली में प्रचंड बहुमत से जीत दर्ज करने के बाद सरकार बनाने की कवायद में जुटे आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने बुधवार को गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात की। केजरीवाल के साथ आप नेता मनीष सिसोदिया भी मौजूद थे। केजरीवाल ने गृह मंत्री से दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा देने की मांग की।

इसके पहले अरविंद केजरीवाल ने केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू से मुलाकात की।

इस दौरान दोनों नेताओं के बीच दिल्‍ली की अनधिकृत कॉलोनियों तथा पूर्ण राज्य के दर्जे सहित विभिन्न मुद्दों पर चर्चा हुई है। इस मुलाकात के दौरान आप नेता मनीष सिसौदिया भी उनके साथ मौजूद थे। नायडू ने चुनाव में जीत की उन्‍हें बधाई दी।

जानकारी के अनुसार, इस मुलाकात के दौरान केजरीवाल ने नायडू के साथ दिल्‍ली के चार अहम मुद्दों पर सहयोग मांगा। सिसोदिया ने मुलाकात के बाद संवाददाताओं से कहा कि हमने मंत्री के साथ चार बड़े मुद्दों पर चर्चा की। पहला, गरीबों के मुद्दे जैसे उनके लिए मुआवजे पर चर्चा की, हमें उसके लिए केंद्र सरकार की मदद की आवश्यकता होगी। दूसरे, अनधिकृत कॉलोनियों के मुद्दे पर चर्चा की जिस पर केंद्र ने हाल में एक प्रस्ताव पारित किया था। अत: इसे आगे ले जाने के लिए एमसीडी, डीडीए और केंद्र से मदद की जरूरत होगी।

उन्होंने कहा कि हमने उनसे अधिक स्कूलों, कॉलेजों, अस्पतालों और पार्किंग के लिए कहा। इसके लिए काफी जमीन की जरूरत होगी। इसलिए हमने डीडीए के पास मौजूद जमीन के लिए आग्रह किया है। और अंत में पूर्ण राज्य के दर्जे पर बात की। हमें पूर्ण आश्वासन दिया गया है कि किसी राजनीतिक भेदभाव के बिना हमें उनका सहयोग मिलेगा। केजरीवाल आज राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह से भी मिलने वाले हैं। जानकारी के अनुसार, वैंकेया ने आम आदमी पार्टी को केंद्र की ओर से पूर्ण सहयोग का भरोसा दिया।

केंद्रीय मंत्री ने केजरीवाल और सिसोदिया को उनकी जीत पर बधाई दी तथा उनके कंधों पर आई जिम्मेदारी के बारे में भी याद दिलाया। नायडू ने संवाददाताओं से कहा कि आप नेता अरविन्द केजरीवाल और मनीष सिसोदिया ने मुझसे मुलाकात की और कॉलोनियों को नियमित किए जाने तथा जमीन संबंधी अन्य मुद्दों पर चर्चा की। मैंने उन्हें जीत पर बधाई दी तथा उनके कंधों पर आई बड़ी जिम्मेदारी के बारे में याद दिलाया।

India