हर परिवार को 15 लाख की बात केवल एक मुहावरा: शाह

हर परिवार को 15 लाख की बात केवल एक मुहावरा: शाह

नई दिल्ली। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि दिल्ली विधानसभा चुनावों के नतीजों को पीएम नरेन्द्र मोदी के कामकाज का नतीजा नहीं माना जा सकता। लोकसभा चुनाव और विधानसभा चुनाव दोनों अलग-अलग मुद्दों पर लड़े जाते हैं, उनके अलग फैक्टर होते हैं। हर परिवार के खाते में 15 लाख रूपए आने वाली बात को उन्होंने रूपक बताते हुए कहा कि यह केवल यह बताने के लिए कहा गया था कि काला धन कितना विशाल है और उसके वापस आने से सभी का आर्थिक विकास होगा।

अरविन्द केजरीवाल की आप पार्टी के फंडिंग पर सवाल उठाते हुए उन्होंने पूछा कि केजरीवाल को बताना चाहिए कि पार्टी के खाते में आधी रात को 2 करोड़ रूपए कहां से आए। उन्होंने केजरीवाल की कथनी और करनी में अंतर बताते हुए कहा कि उन्होंने जनता से जो भी वादे किए उनसे वह बाद में पलट गए। 

अमित शाह ने अपने इंटरव्यू में केजरीवाल पर जातिवादी होने का आरोप भी लगाया। उन्होंने कहा कि बीजेपी ने आप के वैचारिक गोत्र की बात की थी लेकिन केजरीवाल ने इसे जातिवाद की राजनीति करने के काम लिया। वह खुद को ही पार्टी मानने लगे हैं।

India