प्राथमिक अवस्था में कैंसर का इलाज संभव है: डा0 अनिल मिश्रा

प्राथमिक अवस्था में कैंसर का इलाज संभव है: डा0 अनिल मिश्रा

कार्यशाला में विद्यार्थियों को मिली कैंसर के बारे में जानकारी 

लखनऊ: हेल्प यू एजुकेशनल एवं चैरिटेबल ट्रस्ट द्धारा विश्व कैंसर दिवस पर नेशनल पी.जी. कालेज, लखनऊ में आयोजित कार्यशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला में नेशनल पी.जी. कालेज के विद्यार्थियों ने कैंसर विशेषज्ञों से सवाल पूंछकर कैंसर से बचाव व निदान के बारे में जानकारियां प्राप्त की। यह कार्यशाला नेशनल सर्विस स्कीम  के अंतर्गत आयोजित की गई।

कार्यशाला का शुभारम्भ डा0 एस.पी. सिंह, प्रधानाध्यापक, नंेशनल पी.जी. कालेज डा0 अनिल मिश्रा GM, NRHM, डा0 अवधेश कुमार दीक्षित Ex-Director, J K Cancer Insititute, कानपुर, डा0 प्रेरणा कपूर, MD (Medicine) SGPGI डा0 पियाली भट्टाचार्या, DCH, MD, (Pediatrician) व डा0 विनोद धवन,Architect व हर्ष वर्धन अग्रवाल, फाउण्डर ट्रस्टी, हेल्प यू एजुकेशनल एवं चैरिटेबल ट्रस्ट ने दीप प्रज्वलन व मां सरस्वती जी की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर किया। 

इस अवसर पर हर्ष वर्धन अग्रवाल ने कहा हमारा शरीर एक मशीन की तरह होता है। जिस तरह मशीन में खराबी आती है उसी तरह से इंसान के शरीर में भी कई तरह की समस्यायें उत्पन्न हो जाती है। इन समस्याओं को हम बीमारियों का नाम देते है व इन्ही बीमारियों में से एक बृहद जटिल बीमारी है, कैंसर । दुनिया भर में लाखों लोग प्रतिवर्ष इस बीमारी की वजह से दम तोड़ देतें है। अगर हम अपनी जीवन शैली में थोड़ा बहुत भी परिवर्तन करतें हैं तो कैंसर से बच सकतें हैं जैसे धूम्रपान न करें, मोटापे से बचें, नियमित व्यायाम करें व सूर्य की किरणों से बचें। आप सभी अभी जीवन के उस ेजंहम पर हैं जहां पर आपको कुछ हासिल करना है व अपने गुरूजनों, माता पिता व देश का नाम पूरी दुनिया में रांेशन करना है। आज विश्व कैंसर दिवस पर मैं हेल्प यू एजूकेशनल एंव चैरिटेबल ट्रस्ट सभी से अपील करता हूं कि धूम्रपान से बचें, व अपना जीवन शराब की लत से व्यवतीत करने के स्थान पर कुछ हासिल करने में लगाये तभी देश की प्रगति सम्भव हैं।

नेश्नल पी.जी. कालेज के प्राधानाध्यापक डा0 एस. पी. सिंह ने हेल्प यू एजुकेशनल एवं चैरिटेबल ट्रस्ट के कार्यो की सराहना की।  डा. सिंह ने भविष्य में विधार्थियों से संबधित किसी भी प्रकार के आयोजन हेतु अपने काॅलेज की सुविधाओं को निःशुल्क उपलब्ध कराने की घोषणा की। विधार्थियों ने कैंसर संबधित जो प्रश्न किए व समस्यायें बताईं उससे संबधित अगले सप्ताह पुनः डाक्टरों के पैनल के साथ बच्चो को रूबरू कराने की इच्छा प्रकट की जिसको हेल्प यू एजुकेशनल एवं चैरिटेबल ट्रस्ट ने तत्काल स्वीकार कर लिया।

डा0 अनिल मिश्रा ने उत्तर प्रदेश सरकार की कैंसर हेतु बनवाये गये 28 कैंसर पहचान केन्द्रों पर प्रकाश डाला व कहा, “अगर कैंसर की प्राथमिक अवस्था में ही पहचान हो जाये तो कैंसर का इलाज सम्भव है। उत्तर प्रदेश सरकार ने प्रदेश के 28 जनपदों में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के सहयोग से कैंसर पहचान केंन्द्रों की स्थापना की है। जिससे कैंसर की पहचान कर मरीज को सही परामर्श दिया जाता है। 

डा0 अवधेश कुमार दीक्षित ने मुख कैंसर व स्तन कैंसर के बारे में जानकार देते हुये बताया कि, “मुख कैसर एक तम्बाकू जनित कैंसर है जो भारत में सभी कैसरों का 25 प्रतिशत से 30 प्रतिशत होता है पाश्चात्य देशों में सभी कैंसरों का मात्र 4 से 5 प्रतिशत होता है। पान-मसाला गुटखा चबाने वालों को कैंसर के प्रति जागरूक करना इस देश की प्राथमिकता होनी चाहिए। स्तन कैंसर के बारे में बताते हुये उन्होने कहा, “प्रति एक लाख की आबादी में बीस से तीस भारतीय महिलाओं को कैंसर होता है पर अगर प्रारम्भिक अवस्था में इसका पता चल जाये तो स्तन कैंसर का निदान संभव है।

डा0 प्रेरणा कपूर धूम्रपान से होने वाले खतरों के बारे में विद्यार्थियों को अवगत कराया व कहा कि, “लोागों में दिन प्रतिदिन धूम्रपान की बढती हुयी आदतों के कारण कैंसर के मरीजों में बढोत्तरी हो रही हैं। अतः धूम्रपान का सेवन रोककर हम कैंसर को बढने से रोक सकते हैं।

डा0 पियाली भट्टाचार्या ने देश में कैंसर के कारण हो रही मौतों पर चिंता व्यक्त की व कहा कि, “प्रतिवर्ष भारत में करीब 500000 तक लोग कैंसर की वजह से अपनी जान गवां देते है एवं ॅभ्व् के अनुसार 2015 तक कैंसर से मरने वालों की संख्या 700000 हो जायेगी जो कि अत्यन्त चिंता का विषय हैं। डा0 भट्टाचार्या ने विद्यार्थियों को कैंसर के कारण बताये व यह भी बताया कि जीवन शैली में किस तरह परिवर्तन करने पर कैंसर से बचा जा सकता है। उन्होंने स्तन कैंसर को जानने के लिये स्व-परिक्षण के बारे में बताये व सरवाइकल कैंसर से बचने के उपाय भी बतायें।

Lucknow, Uttar Pradesh, India