चाहत हो, तो रास्ता खुद-ब-खुद बन जाता है

चाहत हो, तो रास्ता खुद-ब-खुद बन जाता है

 हल्ला बोल में इस बार मीरा के संघर्ष  की कहानी

नैतिक और मानसिक रूप से मजबूत व्यक्ति सामने आने वाली किसी भी बाधा को तोड़ सकता है। हल्ला बोल के अगले एपिसोड में इसी बात को साबित करने की कोशिश की गई है। इस एपिसोड में एक युवा लड़की की कहानी होगी, जिसने अपने गांव और वहां के लोगों की मदद और सुरक्षा के लिये सभी बंधनों को तोड़ दिया। हल्ला बोल में मीरा की इस कहानी का प्रसारण रविवार, 18 जनवरी को शाम 6 बजे बिन्दास चैनल पर होगा।  

एक युवा और शिक्षित लड़की मीरा पढ़ाई पूरी करने के बाद अपने गांव वापस लौटती है। गांव लौटने पर मीरा को एक उलझन की स्थिति का सामना करना पड़ता है। उसके दादा जी और एक दोस्त मोहन द्वारा लोगों के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद की जा रही है, क्योंकि ये फूड प्वाॅइजनिंग का शिकार हुये हैं। इसके साथ ही वे एक ताकतवर उद्योगपति रंजीत के खिलाफ लड़ने की भी कोशिश कर रहे हैं, जो गांववालों को अपनी जमीन बेचने के लिये मजबूर कर रहा है। यह हालत देखकर मीरा अपने दादा जी और अन्य गांववालों के साथ मिलकर संघर्ष करने की कोशिश करती है, लेकिन उसे अपनी सुरक्षा के लिये शहर वापस लौटने के लिये मजबूर किया जाता है। शहर वापस लौटते समय उसे महसूस होता है कि उसे अपने लोगों को इस स्थिति से बाहर निकालने में मदद करनी चाहिये और रंजीत को उसके बुरे कर्मों की सजा दिलानी चाहिये। गांव वापस लौटने के बाद वह रंजीत के बारे में और जांच-पड़ताल करने की कोशिश करती है, लेकिन रंजीत और उसके गुंडे उसका अपहरण कर लेते हैं। 

लोकप्रिय टीवी अभिनेत्री पूजा बनर्जी मीरा की भूमिका में होंगी जबकि टेलीविजन अभिनेता करण टाकर दर्शकों को इस महिला की अदभुत् कहानी सुनाते नजर आयेंगे, जिसने विपरीत परिस्थितियों में भी अपने सपनों को पूरा करने की हिम्मत दिखाई। हल्ला बोल की इस कड़ी का प्रसारण रविवार, 18 जनवरी को शाम 6 बजे बिन्दास पर होगा।