दोस्ती की बस पर लगा ब्रेक

दोस्ती की बस पर लगा ब्रेक

दिल्ली-लाहौर बस का आवागमन अब सिर्फ वाघा बॉर्डर तक

लाहौर। भारत-पाकिस्तान की दोस्ती बस के आवागमन में 16 साल बाद बाधा आ गई। पाकिस्तान ने आतंकी हमले के खतरे के बीच बस सेवा को वाघा सीमा तक ही चलाने का फैसला किया है। दोनों देशों के यात्रियों को वाघा सीमा पर उतरकर दूसरी बस पकडऩे को कहा गया है। वाघा बोर्डर भारत और पाकिस्तान बोर्डर पर स्थित है और दोनों देशों के बीच सड़क मार्ग की चौकी है। 

पाकिस्तान के पर्यटन विकास निगम ने कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच चलने वाली दोस्ती बसों को अब वाघा बार्डर पर ही रोक दिया जाएगा। पाकिस्तान से नई दिल्ली और अमृतसर जाने वाले यात्रियों को यह बसें अब वाघा बार्डर से मिलेंगी और सीमा पार से पाकि स्तान आने वाले लोगों को इसी बार्डर पर बस छोडऩी होगी। पीटीडीसी के अधिकारी ने कहा कि इन बस सेवाओं पर आतंकवादी हमले के खतरे की आशंका के मद्देनजर यह फैसला किया गया है।

इन बसों को पुलिस की सुरक्षा में वाघा बार्डर से लाहौर के ननकाना साहिब और गुलबर्ग तक ले जाया जाता था। अधिकारी ने कहा कि इस कदम से दोनों ही ओर से यात्रियों को परेशानी तो जरूर होगी लेकिन यह कदम उनकी सुरक्षा को ध्यान में रखकर ही उठाया गया है।