9000 करोड़ के बदले 6868 करोड़ लौटाना चाहते हैं माल्या

9000 करोड़ के बदले 6868 करोड़ लौटाना चाहते हैं माल्या

बैंकों के करोड़ों रुपए लेकर लंदन में बैठे शराब कारोबारी विजय माल्या ने अब सुप्रीम कोर्ट में एक नई डील पेश की है। माल्या ने बैंकों से लिए गए 9000 करोड़ के लोन की वापसी के लिए सुप्रीम कोर्ट को बताया कि वह इनमें से 6868 करोड़ लौटाना चाहते हैं।

गौरतलब है कि इससे पहले उन्होंने 4400 करोड़ रुपए लौटाने का ऑफर दिया था। मतलब साफ है कि उन्होंने बढ़ते दबाव के बीच पहले की रकम में 2468 करोड़ की वृद्धि कर दी है। इससे पहले उन्होंने माल्या ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दाखिल कर पूछा था कि उनका पासपोर्ट क्यों निलंबित किया गया है। माल्या ने यह भी कहा था कि वह भागे नहीं हैं, लेकिन केंद्र के इस कदम से स्पष्ट है कि उनके खिलाफ बेवजह मामला चलाया गया है, जो मीडिया ट्रायल के कारण हुआ है।

सुप्रीम कोर्ट ने जब माल्या के वकील से पूछा कि वह भारत कब वापस लौट रहे हैं, तो उन्होंने कोई जबाव नहीं दिया। टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक माल्या ने सुप्रीम कोर्ट से कहा है कि वह बैंकों के अधिकतम 6,868 करोड़ रुपए लौटा सकते हैं, इससे अधिक की रकम लौटाना संभव नहीं है।

माल्या ने कोर्ट से यह भी कहा कि किंगफिशर एयरलाइंस को फिर से चलाने की कोशिश की गई, लेकिन ईंधन के बढ़ते दाम, टैक्स रेट ज्यादा होने और एयरक्राफ्ट इंजनों की खराबी की वजह ऐसा संबव नहीं हो पाया। इतना ही नहीं इससे उन्हें और उनके परिवार, यूबी ग्रुप और किंगफिशर फिनवेस्ट को 6,107 करोड़ रुपए का नुकसान भी उठाना पड़ा।

माल्या ने कहा कि उन पर जानबूझकर डिफॉल्टर होने का आरोप लगाया गया है। उनके अनुसार एयरलाइंस को कई व्यावसायिक कारणों से घाटा हुआ, जो उनके नियंत्रण से बाहर था। उन्होंने यह भी कहा कि बैंकों ने उन पर 9 हजार करोड़ का लोन होने की जो बात है वह गलत है।

माल्या के वकील ने सुप्रीम कोर्ट में यह भी कहा कि उनका पूरा परिवार एनआरआई है, इस कारण उनकी प्रॉपर्टी के बारे में जानकारी मांगने का हक भारत में किसी को नहीं है। माल्या ने बताया कि उनके तीनों बच्चे सिद्धार्थ, लियाना और तान्या अमेरिकी नागरिक हैं। उनकी पत्नी 1996 से कैलिफोर्निया में रह रही हैं।