प्रदेश में हो रहा है चौतरफा विकास: मुख्य्मंत्री

प्रदेश में हो रहा है चौतरफा विकास: मुख्य्मंत्री

फैज़ाबाद : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज फैजाबाद के ग्राम सोनवा में कामाख्या भवानी मंदिर के पास ओरियर मवई घाट पर गोमती नदी पर निर्मित किए गए सेतु का लोकार्पण करने के साथ-साथ, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सोनवा, राजकीय बालिका इण्टर काॅलेज सोनवा एवं विकास खण्ड मिल्कीपुर में प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र सराय धनेठी का शिलान्यास भी किया। इस अवसर पर उन्होंने 154 करोड़ रुपये लागत की 84 परियोजनाओं का लोकार्पण तथा 88 करोड़ लागत की 41 परियोजनाओं का भी शिलान्यास किया। अपने फैजाबाद भ्रमण के दौरान मुख्यमंत्री ने सराय धनेठी, अजरौली, मिल्कीपुर में राजकुमारी महाविद्यालय का उद्घाटन भी किया। 

इस अवसर मुख्यमंत्री द्वारा 1200 लाभार्थियों को स्वीकृति पत्र, चेक एवं सहायता भी वितरित की गई। इसके अंतर्गत 30 लाभार्थियों को लोहिया आवास आवंटन पत्र, 300 को समाजवादी पेंशन योजना परिचय पत्र, 20 छात्राओं को कन्या विद्या धन, 20 छात्र-छात्राओं को लैपटाॅप सहित अग्नि काण्ड के 35 पीडि़तों को 50-50 हजार रूपये की आर्थिक सहायता, 150 दिव्यांगों को ट्राई साइकिल व अन्य सहायक उपकरण तथा 200 साइकिलों का वितरण किया गया। मुख्यमंत्री द्वारा जनपद के 11 कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय में बायोमीट्रिक उपस्थिति हेतु मशीन लगाने के भी निर्देश दिये गए, ताकि इन आवसीय विद्यालयों में पढ़ाई की गुणवत्ता सहित सुरक्षा में लगे कर्मचारियों की उपस्थिति भी सुनिश्चित की जा सके।

इस मौके पर आयोजित एक जनसभा को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा प्रदेश का चहुंमुखी विकास सुनिश्चित किया जा रहा है। प्रदेश में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे, मेट्रो रेल के साथ-साथ सड़कों का चैड़ीकरण और सेतुओं इत्यादि का बड़े पैमाने पर निर्माण कराया जा रहा है। प्रदेश की अवस्थापना सुविधाओं जैसे सड़क, बिजली, पानी इत्यादि को लगातार बेहतर बनाया जा रहा है। उन्होंने आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे का जिक्र करते हुए कहा कि देश के इस सबसे लम्बे प्रवेश नियंत्रित मार्ग के निर्माण में किसानों ने स्वयं आगे बढ़कर अपनी ज़मीनें दीं। इस मार्ग के लिए ज़मीन के अधिग्रहण में कहीं कोई दिक्कत नहीं हुई। उन्होंने कहा कि किसानों को उनकी भूमि की कीमत से अधिक भुगतान किया गया। 

श्री यादव ने कहा कि पिछली सरकार के दौरान प्रदेश का विकास एकदम ठप हो गया था। प्रदेशवासियों को कोई भी सुविधा नहीं मिल रही थी, जबकि 2012 में समाजवादी सरकार के सत्ता में आते ही स्वास्थ्य सेवाओं इत्यादि पर विशेष ध्यान दिया गया ताकि लोगों को अच्छी स्वास्थ्य सेवाएं मिलें। राज्य सरकार द्वारा सरकारी अस्पतालों में लोगों को मुफ्त दवाओं के साथ-साथ निःशुल्क जांचें इत्यादि करवाने की सुविधा भी मिल रही है। इलाज को अत्यन्त सुलभ बनाया जा चुका है। ‘108’ समाजवादी स्वास्थ्य सेवा तथा ‘102’ नेशनल एम्बुलेंस सर्विस के माध्यम से लोगों को मुफ्त अस्पताल पहुंचाया जा रहा है। काॅल करने के मात्र आधे घण्टे के अंदर यह सेवाएं रोगियों को उपलब्ध हो रही हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा अपने संसाधनों से समाजवादी पेंशन योजना लागू की गई है, जिसका लाभ 55 लाख गरीब परिवारों को मिल रहा है। इन परिवारों की महिला मुखिया के खाते में सीधे 500 रुपए प्रति माह की धनराशि पहुंचाई जा रही है। यह देश की सबसे बड़ी पेंशन योजना है। गरीबों के लिए निर्मित कराए जा रहे लोहिया आवासों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा इन आवासों के निर्माण के लिए 03 लाख रुपए की राशि खर्च की जा रही है, जबकि केन्द्र सरकार ऐसे ही आवासों के निर्माण पर मात्र 70 हजार रुपए ही खर्च कर रही है। 

श्री यादव ने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा बेरोजगारों को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए बड़े पैमाने पर सरकारी भर्ती की जा रही है। साथ ही, कौशल विकास मिशन के माध्यम से लोगों को कुशल बनाकर उन्हें रोजगार के लिए तैयार किया जा रहा है। सरकार द्वारा गरीबों को ई-रिक्शा उपलब्ध कराए गए हैं ताकि उनके रोजगार की व्यवस्था हो सके। कामधेनु योजना के माध्यम से प्रदेश के दुग्ध उत्पादन में काफी वृद्धि हुई है। इसके चलते अमूल अपना प्लाण्ट प्रदेश में स्थापित कर रहा है। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि कानून-व्यवस्था की दिशा में भी राज्य सरकार द्वारा अच्छा कार्य किया गया है। प्रदेश की कानून-व्यवस्था अन्य प्रदेशों के मुकाबले काफी बेहतर है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार डायल-100 जैसी सेवा शीघ्र ही लागू करने जा रही है, जिस पर काॅल करने पर पुलिस 10 मिनट के अंदर घटना स्थल पर पहुंच जाएगी। 

श्री यादव ने कहा कि प्रदेश सरकार डिजिटल इण्डिया के महत्व को पहले ही पहचान लिया था। अब तक छात्र-छात्राओं को 17 लाख निःशुल्क लैपटाॅप उपलब्ध कराए जा चुके हैं। राज्य सरकार किसानों को हर प्रकार की सहायता उपलब्ध कराई गई है। फसल नष्ट होने पर उन्हें आर्थिक सहायता उपलब्ध कराई गई है। साथ ही, उन्हें मुफ्त सिंचाई की सुविधा तथा खाद व बीज प्रचुर मात्रा में उपलब्ध कराए जा रहे हैं। उनकी फसल का वाजिब दाम भी सुनिश्चित कराया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कई क्षेत्रों में मण्डियों की स्थापना की गई है। उन्होंने कहा कि आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे के किनारे मण्डियों की स्थापना की जा रही है, ताकि किसानों को इस एक्सप्रेस-वे का पूरा लाभ मिले। 

 
Uttar Pradesh, India