शराब ठेकों को हटाने के लिए सड़क पर उतरे लोग

शराब ठेकों को हटाने के लिए सड़क पर उतरे लोग

जानकीपुरम विस्तार में निकली जनजागरण, ठेकों का किया घेराव

लखनऊ। शहर की जानकीपुरम विस्तार योजना के गोल चौराहा स्थित देशी और अंग्रेजी शराब के ठेकों को हटाये जाने की मांग को लेकर आज यहां क्षेत्रीय जनता सड़कों पर उतरकर जनजागरण रैली निकालकर ठेकों का घेराव किया और जमकर नारेबाजी की। इससे पहले रैली जब तक शराब की दुकानों तक पहंुचती तब तक दुकानदार शराब की दुकानें बंद कर भाग चुका था। उल्लेखनीय है कि यहां पहले से मौजूद अंग्रेजी शराब की दुकान को हटाये जाने की मांग के बावजूद ठीक उसके बगल में देशी शराब का ठेका खोल दे दिया गया, जिससे क्षेत्र की जनता में काफी आक्रोश व्याप्त है। 

निर्धारत कार्यक्रम के अनुसार लक्ष्य जनकल्याण समिति के तत्वाधान में क्षेत्र के विभिन्न सेक्टर्स की समितियों जानकीपुरम विस्तार कल्याण समिति सेक्टर तीन, आदि शिव शक्ति सेवा समिति के पदाधिकारियों सहित क्षेत्र के काफी संख्या लोग गोल चौराहा के निकट एक़त्र हुये और वहां जनजागरण रैली निकालकर शराब के ठेकों पर पहंुच उसका घेराव किया और प्रशासन से इसे तत्काल प्रभाव हटाये जाने की मांग को लेकर नारेबाजी की। 

कार्यक्रम के संयोजक पंकज तिवारी, एस0के0 बाजपेई, डी0सी0 गुप्ता, जानकीपुरम विस्तार कल्याण समिति सेक्टर तीन के संतोष तिवारी, श्रीराम तिवारी, आदि शिव शक्ति सेवा समिति के शिव कुमार यादव, जय प्रकाश सिंह, दीपक मिश्रा सहित विस्तार की विभिन्न समितियां जानकीपुरम विस्तार संयुक्त कल्याण महासमिति, जागृति सेवा समिति सेक्टर एक, जानकीपुरम विस्तार समिति सेक्टर चार, सप्त विकास समिति सेक्टर सात, नवोदय आवासीय कल्याण समिति सेक्टर आठ, जानकीपुरम विस्तार विकास समिति सेक्टर नौ, विकास समिति सेक्टर दो, जानकीपुरम विस्तार वेलफेयर सोसायटी सेक्टर-दो, मंगलम आदर्श सोसायटी उत्तर प्रदेश के प्रतिनिधियों सहित कई प्रमुख लोग मौजूद थे। 

इस मौके पर कार्यक्रम के संयोजक पंकज तिवारी ने बताया कि गोल चैराहा स्थित अंग्रेजी शराब की दुकानों को हटाने के लिये जिला आबकारी अधिकारी और जिलाधिकारी को बराबर पत्र लिखा जा रहा था, परन्तु प्रशासन ने क्षेत्र की जनता की इस मांग को दरकिनार करते हुये अंग्रेजी शराब की दुकान को बंद करने के बजाय ठीक उसके बगल में देशी शराब का ठेका भी खुलवा दिया गया। जिससे क्षेत्र की जनता को मजबूर होकर सड़कों पर उतरना पड़ा है, यह लड़ाई सिर्फ आज रैली और विरोध प्रदर्शन तक सीमित नहीं रहेगी जबकि यह दुकानें यहां से हटा नहीं दी जाती तब तक जारी रहेगी। मुख्यमंत्री नाम प्रेषित ज्ञापन में पहले से ही अंग्रेजी शराब की दुकान को हटाये जाने को लेकर अब तक की गयी काररवाई को लेकर का ब्यौरा उपलब्ध कराया गया और साथ इन दुकानों से क्षेत्र में पड़ रहे दुष्प्रभाव से अवगत कराया गया।

Lucknow, Uttar Pradesh, India