सीवेज के पानी से होगा पिचों का रखरखाव

सीवेज के पानी से होगा पिचों का रखरखाव

BCCI ने मुंबई हाईकोर्ट को दिया जवाब 

मुंबई : बम्बई उच्च न्यायालय के सवाल उठाने के बाद बीसीसीआई ने कहा कि वह सूखाग्रस्त महाराष्ट्र में आईपीएल मैचों के लिये मैदानों के रखरखाव के मद्देनजर सीवेज का साफ किया हुआ पानी खरीदेगा।

भारतीय क्रिकेट नियंत्रण बोर्ड (बीसीसीआई) के वकील रफीक दादा ने कहा, ‘हमने पुणे और मुंबई में खेले जाने वाले आईपीएल मैचों के लिये सीवेज का साफ किया हुआ पानी खरीदने के लिये रॉयल वेस्टर्न इंडिया टर्फ क्लब (आरडब्ल्यूआईटीसी) से करार किया है। ’ न्यायमूर्ति वी एम कनाडे और एम एस कार्णिक की पीठ गैर सरकारी संगठन लोकसत्ता आंदोलन द्वारा दायर जनहित याचिका की सुनवाई कर रही थी, जिसमें राज्य में सूखे के बावजूद स्टेडियमों में भारी मात्रा में पानी के इस्तेमाल को चुनौती दी गयी थी।

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के नौ क्रिकेट मैच पुणे और आठ मुंबई में खेले जायेंगे। बीसीसीआई के वकील ने अदालत को बताया कि मुंबई में आठ में से एक मैच पहले ही आयोजित किया जा चुका है। तीन मैच नागपुर में आयोजित किये जायेंगे। उन्होंने कहा कि आईपीएल फ्रेंचाइजी किंग्स इलेवन पंजाब ने मोहाली या अन्य किसी जगह मैच आयोजित कराने पर सहमति जता दी है, अगर उच्च न्यायालय उनसे ऐसा कहता है तो। दादा ने कहा कि हर दिन स्टेडियमों को सीवेज के साफ किये हुए सात-आठ टैंकर पानी की आपूर्ति की जायेगी।

दादा ने कहा कि सीवेज के साफ किये हुए पानी के इस्तेमाल के विचार को प्रेरित किया जाना चाहिए क्योंकि सीवेज के पानी को साफ करके इसे समुद्र में बहा दिया जाता है और यह बर्बाद हो जाता है। बीसीसीआई के वकील ने कहा, ‘इस मामले में, सीवेज के साफ किये हुए पानी को समुद्र में बहाने के बजाय हम इसका इस्तेमाल स्टेडियमों में कर रहे हैं। ’ उच्च न्यायालय ने पिछली सुनवाई में मैदानों के लिये भारी मात्रा में पानी के इस्तेमाल के लिये बीसीसीआई की काफी खिंचाई की थी। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में सूखे के हालात को देखते हुए बीसीसीआई ने स्टेडियमों में पानी के इस्तेमाल के मुद्दे को बहुत गंभीरता से लिया।