ब्रेथवेट के छक्कों से वेस्टइंडीज बना चैम्पियन

ब्रेथवेट के छक्कों से वेस्टइंडीज बना चैम्पियन

कैरिबियाई क्रिकेट का सुनहरा दिन, महिलाओं ने भी जीता विश्व कप 

कोलकाता: ब्रेथवेट के अंतिम ओवर की पहली चार गेंदों पर लगाए चार छक्कों की बदौलत वेस्टइंडीज ने वर्ल्ड टी-20 विश्व कप का खिताबी मुकाबला जीत डबल धमाका किया। आज वेस्टइंडीज की महिला टीम भी विश्व कप चैम्पियन बानी है। वेस्टइंडीज ने 156 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए 19.4 ओवर में 5 विकेट पर 161 रन बना लिए। मर्लेन सैमुअल्स (66 गेंदों में 85 रन) और ब्रेथवेट (10 गेंदों में 34 रन) नाबाद रहे। इस प्रकार वेस्टइंडीज ने दूसरी बार टी-20 वर्ल्ड कप पर कब्जा कर लिया। इंग्लैंड की ओर से जो रूट ने बैटिंग के बाद बॉलिंग में भी हाथ दिखाए और वेस्टइंडीज के दो विकेट झटक लिए। इससे पहले इंग्लैंड ने 20 ओवर में 9 विकेट पर 155 रन बनाए थे।

16वें ओवर में विली की पहली ही गेंद पर वेस्टइंडीज को तगड़ा झटका लगा, जब आंद्रे रसेल (1) ने स्टोक्स को कैच थमा दिया। इसके बाद कप्तान डेरेन सैमी भी इसी ओवर में हेल्स को कैच थमा दिया। इस ओवर में दो विकेट गिरे और 7 रन बने। 17वें ओवर में सैमुअल्स ने एक चौका लगाया और 7 रन जोड़े। 18वें ओवर में बड़े शॉट्स की जरूरत थी, लेकिन केवल एक चौके के साथ 11 रन ही बन पाए। 19वां ओवर भी कुछ खास नहीं रहा और इसमें एक चौके के साथ केवल 8 रन ही बन पाए।

सैमुअल्स ने 11वें ओवर की पहली ही गेंद पर बेन स्टोक्स को चौका लगाकर रनगति बढ़ाने की कोशिश की और इस ओवर में 8 रन जोड़े।12वें ओवर में वेस्टइंडीज के बल्लेबाज केवल 5 रन ही बना पाए, जबकि रनगति बढ़ाने की जरूरत थी, लेकिन आदिल राशिद ने उन्हें खुलकर नहीं खेलने दिया। 13वें ओवर में स्टोक्स की गेंद को ब्रावो ने बैकवर्ड स्क्वेयर लेग की ओर उछाल दिया, लेकिन बिलिंग्स ने कैच छोड़ दिया और गेंद 4 रन के लिए बाउंड्री पार कर गई। इस ओवर में 9 रन बने। 14वें ओवर में वेस्टइंडीज का चौथा विकेट गिरा। ड्वेन ब्रावो 27 गेंदों में 25 रन बनाकर आउट हुए। उन्हें राशिद ने रूट को हाथों कैच कराया। उनके और सैमु्अल्स के बीच 75 रन की साझेदारी हुई। 15वें ओवर में सैमुअल्स ने प्लंकेट की अंतिम दो गेंदों पर दो छक्के लगाए, वहीं पहली गेंद पर चौका भी लगाया था। इस ओवर में 18 रन बने।

छठे ओवर में मर्लेन सैमुअल्स ने रनगति बढ़ाई और क्रिस जॉर्डन की पहली दो गेंदों पर दो चौके जड़ दिए। इसके बाद चौथी गेंद पर भी चौका लगाया और इस ओवर में 16 रन ठोके। सातवें ओवर की पहली ही गेंद पर सैमुअल्स को मैदानी अंपायर ने कॉट बिहाइंड आउट दे दिया, लेकिन वह पैवेलियन लौटते हुए बाउंड्री तक ही पहुंचे थे कि इस बीच उन्हें रुकने को कहा गया और बाद में थर्ड अंपायर ने उन्हें नॉटआउट दे दिया। दरअसल कीपर रामदीन उनका कैच ठीक से नहीं पकड़ सके और गेंद उनके दस्तानों में समाने से पहले जमीन की छू गई। 8वें ओवर में आदिल राशिद की गेंद पर 4 ही बन पाए।

इंग्लैंड ने वेस्टइंडीज को दूसरे ही ओवर में दो तगड़े झटके दिए, जब सेमीफाइनल में भारत के खिलाफ शानदार पारी खेलने वाले जॉनसन चार्ल्स 7 गेंदों में एक रन बनाकर जो रूट की गेंद पर बेन स्कोक्स कौ कैच दे बैठे, वहीं विस्फोटक क्रिस गेल भी 2 गेंदों में 4 रन बनाकर चलते बने। तीसरे ओवर में डेविड विली ने सेमीफाइनल में भारत के खिलाफ मैच विजयी पारी खेलने वाले लिडेल सिमन्स (0) को पैवेलियन भेजकर वेस्टइंडीज को उबरने का मौका ही नहीं दिया। दबाव में खेल रही वेस्टइंडीज टीम चौथे ओवर में 4 रन और पांचवें में 3 रन ही बना पाई

इससे पहले इंग्लैंड ने 20 ओवर में 155 रन बनाए । इंग्लैंड की ओर से उसके स्टार बल्लेबाज जोए रूट ने सबसे अधिक 54 रन बनाए जबकि जोस बटलर ने 36 रन जोड़े। डेविड विली ने 21 रनों की तेज पारी खेली। वेस्टइंडीज की ओर से कार्लोस ब्राथवेट और ड्वायन ब्रावो ने तीन-तीन विकेट लिए जबकि सैमुएल बद्री ने एक बार फिर बेहतरीन गेंदबाजी करते हुए 16 रन देकर दो विकेट लिए।

इससे पहले बद्री ने अपनी टीम को बेहतरीन शुरुआत दिलाते हुए जेसन रॉय (0) को पहले ओवर की दूसरी गेंद पर चलता किया था। इसके बाद आंद्रे रसेल ने एलेक्स हाल्स (1) और बद्री ने कप्तान इयोन मोर्गन (5) को चलता कर इंग्लैंड की कमर तोड़ दी थी।

इसके बाद हालंकि जोस बटलर और रूट ने चौथे विकेट के लिए 61 रनो की साझेदारी करते हुए इंग्लैंड को सम्भालने का काम किया। बटलर का विकेट 84 के कुल योग पर गिरा। बटलर ने 22 गेदों पर एक चौका और तीन छक्के लगाए। इसके बाद रूट ने बेन स्टोक्स (13) के साथ 26 रन जोड़े। स्टोक्स 110 के कुल योग पर आउट हुए जबकि रूट को ब्राथवेट ने 111 के कुल योग पर सुलेमान बेन के हाथों कैच कराया।

रूट ने एक बार फिर इंग्लैंड के खेवनहार की भूमिका अदा करते हुए 36 गेंदों पर सात चौके लगाए। रूट के जाने के बाद विली ने 14 गेदों पर दो छक्कों और एक चौके की मदद से 21 तथा क्रिस जार्डन ने 13 गेदों पर एक चौके की मदद से नाबाद 12 रन बनाए।