डॉ वजाहत हुसैन रिजवी को सहाफत इनाम

डॉ वजाहत हुसैन रिजवी को सहाफत इनाम

निदा फाजली को मरणोपरान्त, मौलाना अबुल कलाम आजाद पुरस्कार, उर्दू अकादमी ने की पुरस्कारो की घोषणा

लखनऊः उ0प्र0 उर्दू अकादमी ने आज 2015 के अपने इनामात का एलान कर दिया है। पांच लाख रूपये का मौलाना अबुल कलाम आजाद एवार्ड जनाब निदा फाजली को मरणोपरान्त दिया गया है। उर्दू मासिक पत्रिका नया दौर के संपादक डॉ वजाहत हुसैन रिजवी को सहाफत इनाम को पत्रकारिता में उत्कृष्ट सेवाओं के लिए सहाफ़त इनाम दिया गया है। मजमुई अदबी खिदमात के लिए पांच इनाम एक-एक लाख रूपये के शायरी के लिए अजमल सुलतानपुरी , मोहतरमा मसरूर जहां को फिकशन हेतु, प्रो0 फजले इमाम को शोध एवं समालोचना तथा बच्चो के साहित्य हेतु माहनामा नूर मैगजीन रामपुर और हास्य व्यंग व अन्य विधा के लिए जनाब नुसरत जहीर व मन्सूर उस्मानी देहली को चयनित किया गया ।
अमीर खुसरो पुरस्कार (एक लाख पचास हजार रूपये) के लिए जनाब अजीज कुरैशी, भूतपूर्व़ गर्वनर को  चयनित किया गया । इसके अतिरिक्त विभिन्न विषयों  की किताबों पर भी पुरस्कार दिया गया है । पुरस्कारों का ऐलान करते हुए चेयरमैन उर्दू अकादमी डा0 नवाज देवबन्दी ने इन पुरस्कार प्राप्त करने वालो को अपनी हार्दिक बधाई प्रदान करते हुए उनके कलम की रफतार को इसी तरह रवां-दवां रहने की तमन्ना की है । जिन महानुभावों की किताबों पर उर्दू अकादमी पुरस्कार नहीं दे सकी है उसके लिए उन्होने कहा कि इसका अर्थ यह नहीं है कि उन लेखको की मेहनत बेकार गयी हमारी यह मजबूरी है कि अकादमी को अपने स्वीकृत बजट में रहते हुए निर्णय लेना पड़ता है, इसके बावजूद इस बार प्राप्त किताबों की संख्या को देखते हुए किताबों पर पुरस्कार की संख्या में बढ़ोतरी कर दी गयी है । फिर भी सभी को पुरस्कार देना सम्भव नहीं हो सका । 
पांच लाख रूपये का मौलाना अबुल कलाम आजाद पुरस्कार(राष्ट्रीय स्तर पर एक पुरस्कार) के लिए  निदा फाजली (मरणोपरान्त), मुम्बई, को चुन गया है, जबकि एक-एक लाख रूपये के पांच लाइफ टाइम एचीवमेन्ट पुरस्कार के लिए अजमल सुलतानपुरी ;शायरी), मसरूर जहां, लखनऊ ( फिकशन),  सै0 फजले इमाम रिजवी, लखनऊ(शोध एवं समालोचना), माहनामा नूर, रामपुर(बच्चों का साहित्य), नुसरत जहीर -मन्जूर उस्मानी ;हास्य व्यंग्य) को चुन गया है 
एक-एक लाख  रूपये के डा0 सुगरा मेहदी राष्ट्रीय एकता पुरस्कार के लिए प्रो0 अख्तरूल वासे, देहली तथा डा0 सगीर अफराहीम, अलीगढ़ को चुन गया है। 

ऐलान किये गए अन्य पुरस्कार इस प्रकार हैं:-

1.  एक लाख पचास हजार रूपये का अमीर खुसरो पुरस्कार अजीज कुरैशी , साबिक गर्वनर को। 
2. एक लाख रूपये का प्रेमचन्द इनाम डा0 अली अहमद फातिमी, इलाहाबाद को 
3 .सहाफत इनाम (50-50 हजार रूपये के तीन इनाम) वजाहत हुसैन रिजवी, लखनऊ (प्रिन्ट मीडिया), सरवत उस्मानी (इलेकट्रानिक मीडिया) तथा रोजनामा सहाफत(मीडिया हाउस) को।  
किताबत इनाम (25 हजार रूपये का एक इनाम)  वहाजुल हक काशिफ, मुरादाबाद
प्रकाशक पुरस्कार (25 हजार रूपये का एक इनाम) अरशिया पब्लिकेशन , देहली को 
उपरोक्त के अलावा वर्ष 2015 में प्राप्त पुस्तकों पर निम्नलिखित पुरस्कार दिये गये रू

बीस बीस हजार रूपये के आठ पुरस्कार:

1- मत्न, माने और थेवरी(प्रो0 कुददूस जावेद, जम्मू), 2- तन्कीदी अमल (प्रो0 शारिब रूदौलवी,लखनऊ) 3- गालिब के फारसी खूतूत (प्रो0 हनीफ नकवी,वाराणसी) 4- चांद हमसेे बाते करता है (जनाब नूरूल हसनैन, औरंगाबाद) 5- गऊ दान के बाद (जनाब अली जामिन काजमी, अलीगढ़), 6- हमारा लखनऊ, (जनाब रईस अन्सारी, लखनऊ), 7- शगुफतगी की तलाश में (जनाब अन्जुम उस्मानी,देहली), 8- अव्वल सैलसानी कानूनी लुगत (ख्वाजा अब्दुल मुन्तकिम,देहली),

पन्द्रह-पन्द्रह हजार रूपये के दस पुरस्कार:

1- एजाज हसन का जहाने नकद (अली हैदर रिजवी, इलाहाबाद) 2- शिकस्त की आवाज,(डा0 आफताब अहमद आफाकी, वाराणसी) 3- अफसाना अफसान्चा तकनीकी तनाजुर में,  (मो0 बशीर मालियर कोटलवी,कोटला),  4- सदाए हक(अरावती,वाराणसी), 5- नई गजल में इमेजरी, (डा0 तारिक कमर, लखनऊ), 6- सर किनारा शाम, (रईस उददीन रईस,अलीगढ़), 7- तजकिरा शोराए कानपुर, (सलीम इनायती फारूक जायसी,कानपुर), 8- गीत भी तो गजल भी तो, (सईद रामिश, रामपुर), 9- क्लासिकी उर्दू शायरी की तन्कीद, तारिक सईद,  10- रेहान खुर्द, (डा0 मो0 शरफुददीन साहिल,नागपुर),

दस दस हजार रूपये के इक्कीस पुरस्कार :

1- इरफान सिद्दीकी- हयात व खिदमात और शेरी कायनात, (अजीज नबील आसिफ आजमी,गाजियाबाद),  2- खामा फरसाई, डा0 मखमूर काकोरवी, लखनऊ) 3- काजी अब्दुल गफफार शख्सियत और अदबी खिदमात, (डा0 जहांगीर अहमद खां, रामपुर), 4- कलम का सिपाही, हफीज नोमानी (मोहम्मद ओवैस सम्भली,सम्भल), 5- कहानी अभी खत्म नहीं हुई, (अहमद सगीर,बिहार), 6- नगमा व नूर, (सागर वारसी, शाहजहांपुर), 7- तकमील,(अख्तर शाहजहांपुरी, शाहजहांपुर), 8- कुर्रतुल ऐन हैदर का नाविल चांदनी बेगम एक मुतालिआ, (जानिब इरशाद सयानवी,बुलन्दशहर), 9- गोरा (नावेल रविन्द्र नाथ टैगोर)मोहम्मद अली (मुतरज्जिम), पश्चिम बंगाल, 10- रशहात(डा0 सलीम अहमद,लखनऊ), 11- रशीद हसन खां मुहक्कि और मदून(डा0 टी आर रैनाजम्मू), 12- एदारिया नवीसी और मेरे अदारिये, डा0 अबरार रहमानी, देहली), 13- साहिर लुधियानवी शख्सियत और फन(डा0 जफर एजाज अब्बासी खुर्रम, देहली), 14- तारीख इल्म अलादविया (हकीम सैयद मो0 हस्सान नगरामी ,लखनऊ), 15- शिकार और शिकारी (अहमद हसनैन, इलाहाबाद), 16- फरहंग बाग व बहार (मोहतरमा साजदा कुरैशीरामपुर), 17- कृष्ण चन्द्र अफकार व नजरयात (डा0 फखरूल करीम इलाहाबाद), 18- कबीर दास के दोहों और जोश (मलीहाबादी की रूबायात का तकाबुली मुताला, (डा0 शहनवाज आलम इलाहाबाद), 19- अदब और इबलाग (मुजाहिदुल इस्लाम, लखनऊ), 20- इश्क था (कलीम कैसर बलरामपुरीबलरामपुर), 21- मौलाना मोहम्मद अली जौहर सियासत सहाफत, शायरी,(डा0 मुनव्वर हसन कमाल, नई देहली)
इसके अतिरिक्त पांच-पांच हजार रूपये के 114 इनामात दिए गए। 
Lucknow, Uttar Pradesh, India