मेलबर्न में कोहली का शतक, ऑस्ट्रेलिया को 296 का लक्ष्य

मेलबर्न में कोहली का शतक, ऑस्ट्रेलिया को 296 का लक्ष्य

मेलबर्न। भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच मेलबर्न में खेले जा रहे तीसरे वनडे में भारत ने ऑस्ट्रेलिया को जीत के लिए 296 रनों का लक्ष्य दिया है। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मेलबर्न वनडे में भारत की तरफ से विराट कोहली ने धमाकेदार खेल का परिचय दिया। विराट ने इस मैच में शतक जड़ा। इसी मैच में विराट ने वनडे में सबसे तेज 7000 रन भी पूरे किए।

कोहली ने 105 गेंदों में शतक पूरा किया और 117 गेंदों में 117 रन बनाकर आउट हुए। कोहली ने 7 चौके और 2 छक्के की मदद से यह रन बनाए। कोहली का शिकार जॉन हैस्टिंग्स ने किया। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ करो या मरो वाले इस मुकाबले में भारत की तरफ से अजिंक्य रहाणे और शिखर धवन ने हाफ सेंचुरी भी जड़ी। रहाणे ने 55 गेंदों में 50 और धवन ने 91 गेंदों पर 68 रन की पारी खेली। पिछले 2 मैचों में शतक जड़ने वाले रोहित शर्मा इस मैच में नाकाम साबित हुए। उन्होंने सिर्फ 6 रन ही बनाए।

अपना पहला वनडे खेलने क्रीज पर उतरे गुरकीरत सिंह सिर्फ 8 रन ही बना सके और जेम्स फॉकनर का शिकार बने। कप्तान धोनी ने 9 गेंदों में 23 रन की ताबड़तोड़ पारी खेली। हालंकि ज्यादा रन बनाने के चक्कर में वह अपना विकेट नहीं संभाल सके। भारत ने 50 ओवर के खेल में 6 विकेट खोकर 295 रन बनाए।

भारतीय क्रिकेट टीम के दिग्गज बल्लेबाज विराट कोहली वनडे क्रिकेट में सबसे तेजी से 7000 रन बनाने वाले बल्लेबाज बन गए। कोहली ब्रिस्बेन में 59 रनों की पारी खेलने वाले कोहली इस रिकार्ड से 19 रन दूर रह गए थे।

मेलबर्न में कोहली को वनडे करियर में 7000 रन पूरे करने के लिए 19 रनों की दरकार थी। अब तक सबसे तेजी से 7000 रन बनाने का रिकॉर्ड दक्षिण अफ्रीका के अब्राहम डिविलियर्स के नाम था।

डिविलियर्स ने 166 पारियों में इतने रन जुटाए हैं। पर्थ में हुए पहले मैच में भी 91 रन बनाने वाले कोहली अब तक 169 मैचों में 161 पारियां खेली हैं। कोहली से पहले भारत के लिए सबसे तेजी से 7000 रन पूरे करने का रिकार्ड सौरव गांगुली के नाम था, जिन्होंने 174 पारियों में इतने रन बनाए हैं।

कोहली 7000 या उससे अधिक एकदिवसीय रन बनाने वाले विश्व के 36वें और भारत के आठवे खिलाड़ी बन गए गए हैं।