भारत के पास डेमोग्राफिक डिविडेंड के रूप में  विशाल सम्पत्ति है: चंदा कोचर

भारत के पास डेमोग्राफिक डिविडेंड के रूप में विशाल सम्पत्ति है: चंदा कोचर

आईसीआईसीआई एकेडमी फॉर स्किल्स ने अपने लखनऊ सेंटर में दीक्षांत समारोह का आयोजन किया

लखनऊः आईसीआईसीआई फाउंडेशन फॉर इंक्लूसिव ग्रोथ (आईसीआईसीआई फाउंडेशन)  द्वारा युवाओं के लिए सतत रोजगार के निर्माण हेतु स्थापित आईसीआईसीआई एकेडमी फॉर स्किल्स(आईसीआईसीआई एकेडमी) की तरफ से उत्तर प्रदेश के आईसीआईसीआई एकेडमी चन्द्रलोक, अलीगंज, लखनऊ स्थित अपने केंद्र में छात्रों के लिए दीक्षांत समारोह का आयोजन किया गया।

मुख्य अतिथि अमित चौधरी निदेशक, एचसीएल कैरियर डेवलपमेंट सेंटर और एम जे रफत, एसोसियेट चीफ मैनेजर-डाइरेक्ट सेल्स, गोदरेज - वाॅयस मेन्युफेक्चरिंग कम्पनी लिमिटेड ने आईसीआईसीआई एकेडमी के लखनऊ सेंटर में कार्यालय प्रबंधन के प्रशिक्षण कार्यक्रम को पूरा करने वाली युवती महिलाओं को प्रमाण पत्र प्रदान किया। सभी विद्यार्थियों को टेलीकम्युनिकेशन, बीएफएसआई, एडवरटाइजिंग, एफएमसीजी और आईटीईएस जैसे क्षेत्रों में नियुक्ति की अनुशंसा की गई है।

आईसीआईसीआई बैंक की एमडी और सीईओ सुश्री चंदा कोचर ने कहा, 'भारत के पास डेमोग्राफिक डिविडेंड के रूप में एक विशाल सम्पत्ति है। हालांकि, डेमोग्राफिक डिविडेंड को विकास और समृद्धि में बदलने के लिए रोजगार सृजन के साथ ही युवाओं को रोजगार के अवसरों का लाभ हासिल करने के लिए सक्षम बनाने की आवश्यकता है। आईसीआईसीआई एकेडमी फॉर स्किल्स के माध्यम से हम महिलाओं सहित वंचितों युवाओं को सशक्त बनाने में योगदान कर रहें हैं और उन्हें आत्मविश्वास के साथ दुनिया का सामना करने के लिए तैयार कर रहें हैं।