मोदी राज में सरसों के तेल के दाम 40 फीसदी तक बढे

मोदी राज में सरसों के तेल के दाम 40 फीसदी तक बढे

नई दिल्ली: प्याज और दाल के बढ़े दामों के बाद अब देश में सरसों के तेल के दाम बढ़ गए हैं। खुद सरकारी आंकड़े बता रहे हैं कि पिछले एक साल में तेल के दाम 40 फीसदी तक बढ़ चुके हैं।

रिटेलरों के मुताबिक पिछले एक-डेढ़ महीने में 25 रुपये तक दाम बढ़ गए हैं। दक्षिणी दिल्ली के कोटला मुबारकपुर में प्रोविजन स्टोर चलाने वाले नरेंद्र कुमार ने बताया 'सरसों तेल के दाम धीरे-धीरे बढ़े हैं, जैसे हर हफ्ते 5-5 रुपये करके पिछले एक-डेढ़ महीने में करीब 25 रुपये तक बढ़ गए दाम।'

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक पिछले साल 102 रुपये लीटर का सरसों तेल पिछले महीने 122 रुपये तक पंहुचा और आज 145 रुपये लीटर बिक रहा है, यानी साल भर में 42 फीसदी महंगा हो गया सरसों का तेल।

थोक कारोबारियों का कहना है कि फरवरी-मार्च में बेमौसम बरसात की वजह से फसल खराब हुई, जिसके कारण दाम लगातार बढ़ रहे हैं। दिल्ली के खारी-बावली इलाके में खाने के तेल का थोक कारोबार करने वाले हेमंत गुप्ता के मुताबिक पिछले साल जहां 65 लाख टन सरसों का उत्पादन हुआ, वहीं इस साल 50 लाख टन हुआ है यानी इस बार उत्पादन करीब 25 फीसदी कम हुआ है।