मोदी मुझे शीला दीक्षित न समझें: केजरीवाल

मोदी मुझे शीला दीक्षित न समझें: केजरीवाल

नई दिल्ली: दिल्ली में दो मासूम बच्चियों के साथ गैंगरेप की घटनाओं पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पुलिस व्यवस्था को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधा और कहा कि अगर इस तरह की घटनाएं फिर से होती हैं, तो वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को 'चैन से' नहीं सोने देंगे। राष्ट्रीय राजधानी में 'जंगल राज' होने का उल्लेख करते हुए केजरीवाल ने कानून-व्यवस्था एक साल के लिए दिल्ली सरकार के सुपुर्द किए जाने का आह्वान किया।

उप राज्यपाल नजीब जंग से मुलाकात के बाद मुख्यमंत्री से संवाददाताओं से कहा, प्रधानमंत्री को यह समझ लेना चाहिए कि मैं शीला दीक्षित (पूर्व मुख्यमंत्री) नहीं हूं। मैं खामोश नहीं रहूंगा। केजरीवाल ने कहा, अगर दिल्ली में महिलाओं को उचित सुरक्षा नहीं मिलती और बलात्कार की घटनाएं जारी रहीं, तो हम प्रधानमंत्री को चैन से नहीं सोने देंगे। यह गारंटी है।' उन्होंने कहा कि दिल्ली में जंगल राज बना हुआ है तथा यह चिंता का विषय है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने केंद्र से अपील कहा कि वह अड़ियल रुख छोड़े और एक साल के लिए दिल्ली की कानून व्यवस्था हमारी सरकार के नियंत्रण में दे। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार महिलाओं की सुरक्षा के लिए सभी विकल्पों पर गौर कर रही है। केजरीवाल ने कहा कि इस मुद्दे पर चर्चा के लिए सोमवार को कैबिनेट की बैठक बुलाई गई है।

उप राज्यपाल के साथ अपनी बैठक के बारे में केजरीवाल ने कहा कि उन्होंने महिला विरोधी अपराधों और लापता बच्चों के मामलों का आंकड़ा सौंपा है। उन्होंने कहा, हम पिछले साल के अपराध के रिकॉर्ड के साथ उप राज्यपाल से मिले। महिलाओं के खिलाफ करीब 31,000 मामले दर्ज किए गए। इनमें से सिर्फ 13,000 मामलों में आरोप पत्र दायर किए गए तथा 18,000 मामलों में कोई आरोप पत्र दायर नहीं किया गया। दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा, सिर्फ 146 लोगों को दंडित किया गया। ऐसे में आप देख सकते हैं कि महिलाएं कितनी सुरक्षित हैं।

मुख्यमंत्री ने दिल्ली पुलिस की ओर से शुरू किए गए 'हिम्मत' ऐप को लेकर भी निशाना साधा और कहा कि 4,000 मामलों से सिर्फ 13 का उचित ढंग से निवारण किया गया। खबर है कि केजरीवाल ने इस बैठक के दौरान पुलिस पर 'लोकतांत्रिक नियंत्रण' को लेकर जंग से सवाल किए। यह बैठक 45 मिनट तक चली।

उन्होंने कहा, दिल्ली पुलिस पर कोई लोकतांत्रिक नियंत्रण नहीं है, जो हमारे लोकतांत्रिक देश के लिए बहुत खतरनाक है। मैं विश्वास दिलाता हूं कि हम पूरे दिल्ली को बदल देंगे जैसा कि हमने नियंत्रण के तहत दूसरे क्षेत्रों में किया है। केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली के लोग इन घटनाओं को लेकर निराश और बहुत गुस्से में हैं।