राज्य में पर्यटन की असीमित सम्भावनाएं मौजूद: अखिलेश

राज्य में पर्यटन की असीमित सम्भावनाएं मौजूद: अखिलेश

मुख्यमंत्री ने ‘उत्तर प्रदेश ट्रेवल राइटर्स काॅन्क्लेव 2015’ को सम्बोधित किया

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि राज्य में पर्यटन की असीमित सम्भावनाएं मौजूद हैं। प्रदेश के लगभग सभी क्षेत्रों में कोई न कोई आकर्षण मौजूद है, जो पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करने में सक्षम है। यह आकर्षण ऐतिहासिक धरोहर, हस्तशिल्प अथवा खान-पान से सम्बन्धित हो सकता है। उन्होंने कहा कि जहां एक ओर यह भगवान राम, कृष्ण, गौतम बुद्ध की धरती है, वहीं रहीम, तुलसी, सूर, कबीर सहित तमाम संत-कवि भी यहां की विरासत की अनमोल पहचान हैं। इन सब के मद्देनजर राज्य सरकार प्रदेश में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए गम्भीर प्रयास कर रही है। 

मुख्यमंत्री ने यह विचार आज यहां होटल ताज में आयोजित ‘उत्तर प्रदेश ट्रेवल राइटर्स काॅन्क्लेव 2015’ के दौरान व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि प्रदेश में आने वाले पर्यटकों को अपने अनुभव लिपिबद्ध करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा, जिससे दुनियाभर के पर्यटन प्रेमियों को उत्तर प्रदेश जैसे विशाल और विविधतापूर्ण राज्य के खान-पान, रीति-रिवाज, परम्पराओं, संगीत और साहित्य, तहज़ीब सहित तमाम खूबियों के बारे में भी पता चलेगा। उन्होंने कहा कि पर्यटन को बढ़ावा देन में इण्टरनेट जैसे आधुनिक संचार माध्यमों का प्रदेश सरकार द्वारा इस्तेमाल किया जाएगा, ताकि प्रदेश के बारे में जानकारी दुनिया के कोने-कोने में उपलब्ध हो सके। उन्होंने आशा व्यक्त की कि ट्रेवल राइटर्स भी इनका इस्तेमाल करते हुए प्रदेश के विषय में विस्तृत जानकारी लोगों को मुहैया कराएंगे। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि आगरा में मुगलकालीन धरोहरों, परम्पराओं, रीति-रिवाजों को आकर्षण का केन्द्र बनाने के लिए अंतर्राष्ट्रीय स्तर के मुगल म्यूजि़यम का निर्माण कराने का फैसला लिया गया है। आगरा के अन्य 12 ऐसे ऐतिहासिक, सांस्कृतिक एवं धार्मिक स्थलों को भी लाइम लाइट में लाने का प्रयास किया जा रहा है। ये सभी स्थल या तो अभी तक लोगों के लिए अंजान थे या इन स्थलों पर सुविधा न मिलने के कारण पर्यटक वहां नहीं जाते थे। समीपवर्ती ब्रज एवं बटेश्वर के साथ-साथ इटावा में लायन सफारी को भी आकर्षण के तौर पर विकसित किया जा रहा है। इसके साथ ही, उत्तर प्रदेश ‘होम आॅफ द ताज’ का अभियान भी चलाया जा रहा है।

श्री यादव ने कहा कि प्रदेश की राजधानी लखनऊ में भी कई विकास कार्य संचालित हैं। गोमती रिवर फ्रण्ट डेवलपमेण्ट का काम तेजी से चल रहा है। तमाम ऐतिहासिक इमारतों को समेटे हुसैनाबाद हेरिटेज जोन का विकास लगभग अंतिम चरण में है। फतेहपुर सीकरी का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि पर्यटकों के आकर्षण के केन्द्र तमाम भवन इतिहास की गम्भीर जानकारी देने में भी सक्षम हैं। उत्तर प्रदेश की विविधता की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि पर्यटन के साथ-साथ यह राज्य राजनीति के क्षेत्र में भी आकर्षण का केन्द्र है। स्वतंत्रता आन्दोलन की शुरूआत भी इसी राज्य से हुई थी। 

मुख्यमंत्री ने खुशी जाहिर की कि प्रदेश में पर्यटकों के लिए चलाई जा रही गतिविधियों को अब अंतर्राष्ट्रीय स्तर से मान्यताएं मिलने लगी हैं, और गत दिवस वल्र्ड टूरिज्म एण्ड ट्रेवल काउन्सिल ने उत्तर प्रदेश को पर्यटन के साथ-साथ अन्य क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य करने हेतु पुरस्कृत किया है। 

श्री यादव ने आशा व्यक्त की कि ट्रैवल राइटर्स अपने लेखन के माध्यम से उत्तर प्रदेश के पर्यटन स्थलों के विषय में देश-विदेश में लोगों को विस्तार से बताएंगे, जिससे बड़ी संख्या में देशी-विदेशी पर्यटक इस राज्य की ओर आकर्षित होंगे। 

कार्यक्रम को पर्यटन मंत्री ओम प्रकाश सिंह ने भी सम्बोधित किया। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने हेरिटेज आर्क बनाकर पर्यटकों के लिए प्रदेश को जानने-समझने के रास्ते खोल दिए हैं। 

अपने सम्बोधन में मुख्य सचिव आलोक रंजन ने कहा कि पर्यटन असीमित सम्भावनाओं वाला क्षेत्र है और राज्य सरकार इसकी अधिकतम सम्भावनाओं का उपयोग करते हुए रोजगार को बढ़ावा देने का प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए प्रदेश में ऐतिहासिक धरोहरें, हस्तशिल्प क्षेत्र, धार्मिक स्थल, वन्य क्षेत्र इत्यादि बड़ी संख्या में मौजूद हैं।

इससे पूर्व मुख्यमंत्री ने दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री को प्रदेश में पर्यटकों के अनुभवों से संकलित पुस्तिका भी भेंट की गई। इस अवसर पर राजनैतिक पेंशन मंत्री राजेन्द्र चौधरी, पर्यटन सचिव अमृत अभिजात, बड़ी संख्या में ट्रेवल राइटर्स मौजूद थे। 

Lucknow, Uttar Pradesh, India