मेरा अब भी मानना  'सारे जहां से अच्छा हिन्दुस्तां हमारा'

मेरा अब भी मानना 'सारे जहां से अच्छा हिन्दुस्तां हमारा'

एखलाक  के बेटे ने की शांति बनाये रखने की अपील

नई दिल्ली: राजधानी दिल्ली से सटे दादरी के बिसाहड़ा गांव में गौमांस खाने और रखने की अफवाह को लेकर भीड़ द्वारा मारे गए 50 साल के मोहम्मद इखलाक के बेटे सरताज ने लोगों से शांति बनाये रखने की अपील की है। भारतीय वायुसेना में सेवा दे रहे सरताज ने एक टीवी चैनल के कार्यक्रम 'वी द पीपुल' में  कहा कि वह ऐसा नहीं कतई नहीं मानते कि सारे लोग बुरे हैं। उन्होंने कहा, 'कुछ लोगों के बुरे होने की वजह से मैं सारे लोगों को बुरा नहीं कह सकता।'

सरताज ने कहा कि मेरे पिता की हत्या हुई है, लेकिन मैंने गांव में शांति बनाये रखने की अपील की है। उन्होंने कहा, 'मेरा सरकार पर भरोसा है और मुझे इंसाफ मिलना चाहिए। मेरा अब भी विश्वास है कि 'सारे जहां से अच्छा हिन्दुस्तां हमारा'।

इसके साथ ही उन्होंने कहा, 'मैं गांव वालों से अपील करता हूं वे शांति बनाए रखें, क्योंकि हालात बदलेंगे। मैं देश की सेवा में लगा हूं और कभी ऐसा डर नहीं था कि मेरे पिता की हत्या होगी। मेरे परिवार का कभी किसी से झगड़ा नहीं रहा, हम सब मिल जुल कर रहते थे, पर्व त्योहारों में एक दूसरे के घर भी जाते थे और खाना भी पहुंचाते थे। मैंने कभी नहीं सोचा था कि मेरे पड़ोसी ही ऐसा करेंगे। यहां वक्त राजनीति का नहीं, सहानुभूति का है।' उन्होंने साथ ही कहा कि नेता आएं, लेकिन राजनीति नहीं करें।

सरताज के परिवार को दूसरी जगह ले जाने के वायुसेना प्रमुख के प्रस्ताव पर उन्होंने कहा, 'एयर फोर्स में मेरे सीनियर्स मुझसे ज्यादा परिपक्व हैं। वह जैसा बेहतर सोचेंगे वैसा ही करूंगा। इंडियन एयर फोर्स मेरे लिए परिवार की तरह है। मैं एक छोटी सी एक प्रार्थना करना चाहता हूं देश के लोग मेरे भाई की सलामती के लिए दुआ मांगें।'

India