किसी मुसलमान के हाथ में न हो अमरीका की बागडोर:  बेन कार्सन

किसी मुसलमान के हाथ में न हो अमरीका की बागडोर: बेन कार्सन

वाशिंगटन: अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में रिपब्लिकन पार्टी की ओर उम्मीदवारी की दौड़ में शामिल बेन कार्सन ने कहा है कि किसी भी मुस्लिम को अमेरिका का राष्ट्रपति नहीं होना चाहिए। कार्सन एक रिटायर्ड ब्रेन सर्जन हैं, जो अक्सर ईसाई धर्म के प्रति अपनी गहरी आस्था व्यक्त करते रहे हैं।

उन्होंने 'एनबीसी' के 'मीट द प्रेस' कार्यक्रम में कहा, मैं इस बात की वकालत नहीं करूंगा कि किसी मुसलमान के हाथ में देश की बागडौर सौंप दी जाए। मैं इससे बिल्कुल भी सहमत नहीं हूं। कार्सन से जब पूछा गया कि क्या किसी राष्ट्रपति का धर्म मायने रखता है, तो उन्होंने कहा, यह इस बात पर निर्भर करता है कि वह कैसी आस्था है। यदि यह अमेरिकी मूल्यों और सिद्धातों से असंगत है, तब निश्चित रूप से यह मायने रखेगा। लेकिन अगर यह अमेरिकी प्रभुता और संविधान के अनुसार है, तब इससे कोई परेशानी नहीं है।

राष्ट्रपति पद की होड़ में शामिल रिपब्लिकन पार्टी के ही एक अन्य उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप के एक समर्थक को ओबामा को मुसलमान कहने से न रोकने की वजह से आलोचना हो रही है। आलोचना के बाद ट्रंप ने कहा कि ओबामा का बचाव करना उनकी जिम्मेदारी नहीं है।

ताजा ओपिनियन पोल के मुताबिक रिपब्लिकन पार्टी की ओर से उम्मीदवारी की दौड़ में कार्सन अब तीसरे नंबर पर खिसक गए हैं, जबकि कई हफ्तों तक वह दूसरे नंबर पर चल रहे थे। कार्सन ने कहा, उनका विश्वास है कि ओबामा का जन्म अमेरिका में हुआ था और वह एक ईसाई हैं।