लैपटॉप पर 'मांझी-द माउंटेन मैन' देखने का कोई मतलब नहीं: नवाजुद्दीन

लैपटॉप पर 'मांझी-द माउंटेन मैन' देखने का कोई मतलब नहीं: नवाजुद्दीन

मुंबई: फिल्म अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्दीकी का कहना है कि 'मांझी-द माउंटेन मैन' जैसी गहरी और व्यापक फिल्म को लैपटॉप पर देखने का कोई मतलब नहीं, क्योंकि इससे फिल्म को देखने का उद्देश्य ही नहीं बचता। फिल्म के प्रचार के दौरान नवाजुद्दीन से पूरी फिल्म लीक हो जाने के कारण व्यवसाय को पहुंचने वाले नुकसान के बारे में पूछा गया।

नवाजुद्दीन ने कहा, मैं यही कह सकता हूं कि इस जैसी फिल्म और कहानी को लैपटॉप पर नहीं देखा जाना चाहिए। ऐसी कहानी जिसमें एक आदमी विशाल पर्वत के आगे खड़ा है, जिसमें इतने गहरे दृश्य हैं, उसे लैपटॉप के छोटे से स्क्रीन पर देखने का कोई मतलब नहीं। मेरी दरख्वास्त है कि जिन लोगों ने फिल्म देख ली है, वे भी सिनेमाघर जाकर फिर से यह फिल्म देखें। उन्होंने कहा, फिल्म देखने का मजा बड़े पर्दे पर ही आएगा। फिल्म देखकर आप रो सकेंगे, हंस सकेंगे और भावनाओं को महसूस कर सकेंगे, तो आपको यह फिल्म बड़े पर्दे पर देखनी चाहिए।

फिल्म प्रदर्शित होने से एक सप्ताह पहले ही इंटरनेट पर लीक हो चुकी है। नवाजुद्दीन ने बताया कि फिल्म के वितरक 18 कानूनी मसले को देख रहे हैं। फिल्म आधिकारिक रूप से 21 अगस्त को रिलीज हो रही है। अभिनेत्री राधिका आप्टे ने फिल्म में मांझी की पत्नी की भूमिका निभाई है।