लमो देंगे अब आईसीसी को टक्कर, बनाएंगे समानांतर संस्था

लमो देंगे अब आईसीसी को टक्कर, बनाएंगे समानांतर संस्था

लंदन: आईपीएल के बर्खास्त आयुक्त ललित मोदी ने आईसीसी की प्रतिस्पर्धी क्रिकेट संचालन संस्था का खाका तैयार किया है। उनका दावा है कि यह दुनियाभर में क्रिकेट का भविष्य है।

ललित ने कहा कि नई संस्था ओलिंपिक अभियान से मान्यता प्राप्त होगी और टेस्ट तथा टी20 प्रतियोगिताओं का संचालन करेगी, जबकि एकदिवसीय प्रारूप को खत्म कर दिया जाएगा। वित्तीय अनियमितताओं के आरोपों का सामना कर रहे ललित मोदी फिलहाल लंदन में रह रहे हैं।

उन्होंने ऑस्ट्रेलियन ब्रॉडकास्टिंग कॉर्पोरेशन से कहा, ‘हम एक अन्य क्रिकेट प्रणाली की बात कर रहे हैं। इसका खाका तैयार है, इस पर मेरा ठप्पा लगा है।'

ललित ने कहा, ‘मैं इसमें जुड़ा हुआ हूं। मैं पहली बार यह कह रहा हूं। मैं इस खाके को तैयार करने में शामिल रहा हूं। हमें मौजूदा संगठन का सामना करना पड़ सकता है, कोई सदस्य नहीं। इसके लिए कुछ अरब डालर की जरूरत पड़ेगी, मुझे नहीं लगता कि काम शुरू करने के लिए इसे हासिल करना कोई समस्या है।’ उन्होंने आगे कहा, ‘मैंने जो योजना तैयार की है वह काफी विस्तृत है, ऐसा नहीं है कि आनन-फानन में यह योजना तैयार हुई है। इसे तैयार करने में वर्षों का समय लगा है।’

वर्ष 2010 में आईपीएल आयुक्त पद से बर्खास्त किए गए ललित मोदी के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय के आरोपों के आधार पर गिरफ्तारी वारंट है। ललित ने हालांकि अपने खिलाफ इन आरोपों से इनकार किया है।

इस विवादास्पद प्रशासक ने कहा कि उनकी योजना तभी विफल होगी जब फिलहाल उनके धुर विरोधी और बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष एन श्रीनिवासन के अंतर्गत काम कर रहा आईसीसी सुधारवादी कदम उठाएगा।

उन्होंने कहा, ‘उम्मीद करता हूं कि यह खाका अमलीजामा नहीं पहने। लेकिन अगर लोग काम नहीं करते, तो यह खाका अमलीजामा पहनेगा और कल विश्व में छा जाएगा। मैं आज यहां बैठकर आपको इसकी गारंटी देता हूं।’ ललित ने कहा कि उनके खाके में प्रतियोगिताओं का कैलेंडर भी शामिल है जो टेस्ट और टी20 मैचों में आईसीसी के कार्यक्रम का प्रतिस्पर्धी होगा।

उन्होंने कहा, ‘इस योजना में सिर्फ टेस्ट क्रिकेट और टी20 को शामिल किया गया है। इसमें वनडे पर बिलकुल भी विचार नहीं किया गया। मुझे लगता है कि आज के युग में यह बिलकुल बेकार है। मुझे लगता है कि सिर्फ टी20 और टेस्ट मैच खेले जाने चाहिए।’ ललित ने कहा कि आईसीसी को अंतरराष्ट्रीय ओलिंपिक समिति की मान्यता हासिल करने की कोशिश करनी चाहिए।

उन्होंने कहा, ‘मैं इसका प्रस्ताव रख रहा हूं। आईसीसी कभी इससे सहमत नहीं होगा, नहीं का मतलब कभी नहीं। यह ऐसी योजना है जिसे अगर एक दिन मैंने कभी लागू किया तो यह खेल में दोबारा इतिहास लिखेगी।’ ललित ने कहा, ‘आईपीएल की जिस तरह मार्केटिंग की गई उसने खेल में दोबारा इतिहास लिखा। मुझे लगता है कि यह एक बार दोबारा इतिहास लिखेगी।’