मोदी ने लोगों से पूछा, स्वतंत्रता दिवस पर क्या बोलूं

मोदी ने लोगों से पूछा, स्वतंत्रता दिवस पर क्या बोलूं

नई दिल्ली: देश में सड़क दुर्घटना की गंभीर स्थिति का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि इसे ध्यान में रखते हुए सरकार जल्द ही सड़क परिवहन और सुरक्षा विधेयक, राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा नीति, राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा कार्ययोजना तथा सड़क दुर्घटना के पीड़ितों के उपचार के लिए चुनिंदा शहरों एवं राजमार्गों पर कैशलेस इलाज की व्यवस्था लागू करेगी।

आकाशवाणी पर प्रसारित 'मन की बात' कार्यक्रम में अपने संबोधन में प्रधानमंत्री ने कहा कि अभी दो दिन पहले, दिल्ली की एक दुर्घटना के दृश्य पर मेरी नजर पड़ी। और दुर्घटना के बाद वो स्कूटर चालक 10 मिनट तक तड़पता रहा। उसे कोई मदद नहीं मिली। वैसे भी मैंने देखा है कि मुझे कई लोग लगातार इस बात पर लिखते रहते हैं कि आप सड़क सुरक्षा पर कुछ बोलिए। लोगों को सचेत कीजिए।

प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में अच्छे मॉनसून से बेहतर फसल की संभावना पर किसान भाईयों को बधाई दी। साथ ही करगिल विजय दिवस पर शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनता से सुझाव मांगे कि उन्हें इस स्वतंत्रता दिवस पर क्या बोलना चाहिए। प्रधानमंत्री ने शौचालय को रक्षा बंधन पर बहन के लिए तोहफे की पहल का भी जिक्र किया और इसरो द्वारा ब्रिटेन के पांच उपग्रहों को सफलतापूर्वक प्रक्षेपित किए जाने की भी चर्चा की।

प्रधानमंत्री ने कहा, हम सड़क परिवहन और सुरक्षा विधेयक लाने जा रहे हैं। आने वाले दिनों में राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा नीति और राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा कार्ययोजना को लागू करने की दिशा में भी हम कई महत्वपूर्ण कदम उठाने के लिए सोच रहे हैं।

पीएम मोदी ने कहा, एक और परियोजना हमने ली है, आगे चलकर इसका विस्तार भी होने वाला है, नकदरहित उपचार.. गुड़गांव, जयपुर और वड़ोदरा... वहां से लेकर मुंबई, रांची, रणगांव, मौंडिया राजमार्गों के लिए, हम एक नकदरहित उपचार व्यवस्था पेश कर रहे हैं।

India