मोदी काल में डेढ़ गुना हुई खुदरा दाल की कीमतें

मोदी काल में डेढ़ गुना हुई खुदरा दाल की कीमतें

नई दिल्ली : सरकार ने आज बताया कि विगत एक वर्ष में दालों की खुदरा कीमतों में 41 प्रतिशत की तेजी आई है जिसका कारण प्रतिकूल मौसम के कारण उत्पादन में गिरावट आना है।

खाद्य मंत्री रामविलास पासवान ने एक प्रश्न के लिखित उत्तर में राज्यसभा को बताया, 'पिछले एक वर्ष में कुछ प्रमुख दालों की कीमतों में वृद्धि 12.63 प्रतिशत से 40.73 प्रतिशत के बीच रही। इसका मुख्य कारण प्रतिकूल मौसम में पैदावार कम होना है।' मूंग दाल खुदरा कीमत 20 जुलाई को 98.47 रुपये प्रति किलो रही जो एक साल पहले की तुलना में 12.63 प्रतिशत अधिक है। 18 जुलाई 2014 को इसका भाव 87.43 रुपये प्रति किलो था।

इसी दौरान उड़द दाल 34.39 प्रतिशत बढ़कर 99.03 रुपये और अरहर दाल 40.73 प्रतिशत बढ़कर 99.31 रुपये प्रति किलो हो गई। उच्च सदन में प्रस्तुत किये गये आंकड़ों के अनुसार मसूर दाल की कीमत 23 प्रतिशत बढ़कर 82.53 रुपये प्रति किलो हो गई जबकि चना दाल की कीमत 30.53 प्रतिशत बढ़कर 60.29 रुपये प्रति किलो हो गई।