उत्तर प्रदेश के कैकयी हैं अखिलेश यादव

उत्तर प्रदेश के कैकयी हैं अखिलेश यादव

सत्य प्रकाश

उत्तरप्रदेश में अखिलेश यादव पूर्ण रूप से कैकयी की भूमिका अदा कर रहे हैं | जिस प्रकार कैकयी ने वनवास की मांग की थी उसी प्रकार अखिलेश यादव अपने राज्य में  तैनात अधिकारियों से वनवास के स्थान पर तबादले का आदेश कर देते हैं | भारत सरकार ने 28 जनवरी 2014 को आईपीएस कैडर संशोधन नियम 2014 पारित कर आईपीएस अफसरों की न्यूनतम तैनाती 2 वर्ष तय कर दी लेकिन यूपी में इस नियम का रोजाना उल्लंघन हो रहा है.  

यूपी में कुल 405 आईपीएस अफसर हैं और इस प्रकार पिछले कुछ माह में आईपीएस अफसरों का औसतन 1.2 बार तबादला किया जा चुका है जबकि न्यूनतम तैनाती 2 साल निर्धारित की गयी है. इस दौरान कई अफसरों को डीजीपी कार्यालय से सम्बद्ध किया गया और कई अफसरों के आदेश निरस्त किये गए | इलाहाबाद हाइकोर्ट और राज्यपाल राम नाइक की तमाम नसीहतों और पूछताछ के बावजूद अखिलेश यादव सरकार की तबादला रफ़्तार पर कोई फर्क नहीं पड़ रहा है। राज्यपाल राम नाइक ने कुछ महीने पूर्व प्रदेश में बड़े पैमाने पर हुए अफसरों के तबादलों पर सवाल उठाते हुए कहा कि सिर्फ अफसरों को इधर-उधर करने से कानून व्‍यवस्था में सुधार नहीं होगा, बल्कि इसके लिए पुलिस अफसरों और जिलाधिकारियों सहित अन्य प्रशासनिक अफसरों को बेहतर काम करना होगा। वहीँ दूसरी ओर सामाजिक कार्यकर्ता नूतन ठाकुर ने इस मामले को मुद्दा बनाते हुए हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में अवमानना का वाद दाखिल किया, तो सरकार का संकट और भी बढ़ गया। इसमें यूपी के मुख्य सचिव आलोक रंजन और अन्य वरिष्ठ अफसरों के खिलाफ अवमानना याचिका दायर की गयी है।

इलाहबाद हाई कोर्ट की कई बार नसीहतों के बाद भी अखिलेश सरकार की रफ़्तार में कमी नहीं आई वे जिस अधिकारी या उसकी कार्य प्रणाली से खुश नहीं होते उसका तबादला कर देते हैं | हाल ही में सपा सुप्रीमों ने पहले तो आई० पी० एस० अधिकारी को फ़ोन पर धमकी दी उसके बाद सत्ता का पूरा फायदा उठाते हुए उन्हें निलंबित कर दिया | जब यह बात समाज में आग की तरह फैली तो इस बात पर पर्दा डालने के लिए गाजियाबाद में एक महिला द्वारा अमिताभ ठाकुर पर बलात्कार का आरोप लगाया गया |

अखिलेश यादव का गुस्सा अभी शांत ही नहीं हुआ की एक और आईएस अधिकारी श्री सूर्य प्रताप सिंह उनके सामने प्रकट हो गए जो बहुत समय से अखिलेश सरकार की कार्य कारिणी पर सदैव सवाल उठा देते थे , तो अखिलेश यादव ने कार्यकारिणी में सुधार करने की बजाये आईएस की रूल्स एंड रेगुलेशन के उलंघन के आरोप में उन्हें ही चार्जशीट भेंट कर दी |