परमाणु समझौते पर सावधान रहने की ज़रुरत: खामेनी

परमाणु समझौते पर सावधान रहने की ज़रुरत: खामेनी

तेहरान : ईरान के सर्वोच्च नेता आयतुल्ला अली खामेनी ने राष्ट्रपति हसन रूहानी को आगाह किया है कि ‘कुछ’ वैश्विक शक्तियां परमाणु समझौते के क्रियान्वयन के संदर्भ में भरोसे के लायक नहीं हैं। उन्होंने राष्ट्रपति को समझौते के किसी भी उल्लंघन को लेकर सतर्क रहने को कहा।

रूहानी को लिखे पत्र में खामेनी ने ईरान के वार्ताकारों की ‘उनके अथक प्रयासों’ के लिए सराहना की और उन्हें बधाई दी। खामेनी ने कहा कि यह समझौता एक मील का पत्थर है लेकिन इसको लेकर सावधानी से छानबीन करने की जरूरत है। यह पत्र बुधवार को खामेनी की वेबसाइट पर प्रकाशित हुआ है।

उन्होंने कहा कि रूहानी को दूसरे पक्षों की ओर से प्रतिबद्धताओं के संभावित उल्लंघन की चिंता करनी चाहिए। ईरान के सर्वोच्च नेता ने कहा कि आप सभी वाकिफ हैं कि बातचीत में भाग लेने वाले छह देशों में से कुछ बिल्कुल भी भरोसे के लायक नहीं हैं। उन्होंने अमेरिका, ब्रिटेन, चीन, फ्रांस, रूस और जर्मनी में से किसी का नाम नहीं लिया। बीते मंगलवार को ईरान और विश्व के इन छह प्रमुख देशों के बीच परमाणु समझौता हुआ। इस समझौते का मकसद ईरान को परमाणु हथियार हासिल करने से रोकना है तथा इससे प्रतिबंधों की मार झेल रहे तेहरान को आर्थिक रूप से बड़ी राहत मिलेगी।