किसानों की उपेक्षा से देश का विकास सम्भव नहीं

किसानों की उपेक्षा से देश का विकास सम्भव नहीं

शिवपाल सिंह यादव ने बहुउद्देशीय शीतगृह का किया लोकार्पण              

बाराबंकी : उत्तर प्रदेश शासन के लोक निर्माण, सिंचाई एवं जल संसाधन, सहकारिता मंत्री शिवपाल सिंह यादव ने जनपद बाराबंकी के तहसील नवाबगंज अन्तर्गत ग्राम दौलतपुर में प्रगतिशील किसान रामसरन वर्मा के फल एवं सब्जी भण्डारण हेतु बहुउद्देशीय शीतगृह का लोकार्पण करने के बाद वहा पर आयोजित औद्यानिक फसल गोष्ठी में इफको के अधिकारियों से अपेक्षा की कि इफको द्वारा किसानों के लिए संचालित संकट हरण बीमा योजना की धनराशि 4 हजार रूपये से बढ़ाकर 10 हजार रूपये किया जाये। इस बीमा योजना के तहत इफको की एक बोरी खाद लेने पर 4 हजार रूपये का बीमा होता है। अधिकतम 1 लाख रूपये की इस बीमा योजना में दुर्घटना में किसान की मृत्यु होने पर बीमा की धनराशि मिलती है। इफको ने जिले में अब तक इस बीमा योजना के तहत 1 करोड़ रूपये किसानों को दिया है। शिवपाल सिंह यादव ने इफको से अपेक्षा की कि प्रादेशिक सहकारी समिति की तरह इफको भी सहकारी समितियों का बीमा कर उन्हें सुदृढ़ करने में सहयोग प्रदान करे। उन्होने विश्वास व्यक्त किया कि इफको के एमडी उदय शंकर अवस्थी द्वारा प्रदेश के किसानों को खाद समय से उपलब्ध कराने में जो सहयोग प्रदान किया है। उसी तरह आगे भी सहयोग देगे। 

प्रगतिशील किसान श्री रामसरन वर्मा ने उ0प्र0 के किसानों को जागृत किया है। केला, टमाटर आदि की प्रगतिशील खेती उन्होने बिना सरकार के सहयोग के किया है। इसके लिए उन्हें केन्द्र और राज्य सरकार से पुरस्कृत किया गया है। राम सरन वर्मा ने अपनी काबिलियत पर कई मजदूरों को काम/रोजगार दिया है। श्री रामसरन वर्मा की खेती की खासियत है कि वे रासायनिक खादो का कम प्रयोग करते है उसके स्थान पर गोबर की खाद, हरी खाद एवं बायो उर्वरक का प्रयोग करते है। उन्होने कहा कि रामसरन वर्मा को प्रगतिशील खेती किये जाने में सरकार पूरी सुविधा और सहयोग प्रदान करेगी। इस अवसर पर राम सरन वर्मा को सम्मानित किया गया। 

शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि किसान को खाद, बीज और पानी की समुचित व्यवस्था हो जाये तो वह अपने आप परिश्रम करके अच्छी खेती कर सकता है। उ0प्र0 की सरकार ने किसानो के हितो को प्राथमिकता दी है, चाहे बजट की बात हो या किसानो को सहयोग और सुविधा देने की, सरकार किसानो के समग्र विकास हेतु तत्परता से योजनायें लागू कर रही है। 

शिवपाल सिंह यादव ने गोष्ठी में कहा कि किसानों की उपेक्षा से ही देश दुनिया में विकास की दौड़ में पीछे रह गया है। जिन देशों ने किसानों का ध्यान दिया, वह देश आगे बढ़ा। भारत कृषि प्रधान देश है। देश के तेजी विकास के लिए जरूरी है कि किसानों को ध्यान में रखकर योजनायें संचालित की जाये। उ0प्र0 की वर्तमान सरकार की नीतियों के तहत किसानों का हित सर्वोपरि है। किसानों की फसल का उचित मूल्य मिले बिना किसानों की स्थिति में सुधार सम्भव नहीं है। प्रदेश सरकार किसानों को उनकी फसलों का उचित मूल्य दिलाने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होने कहा कि शीतगृह होने से फल एवं सब्जी की लाभकारी कीमत किसानों को मिल सकेगी।

उन्होने कहा कि सपा सरकार से पूर्व के समय में किसानों को समस्याओं पर ठीक से ध्यान नहीं दिया गया। खाद एवं बीज आदि निवेश न तो समय से मिल सका और न ही निवेशों मे गुणवत्ता ही रही, परन्तु मुख्यमंत्री उ0प्र0 के नेतृत्व में वर्तमान सरकार इस दिशा में पूरी तरह संवेदनशील है। 

उर्वरक, बीज की उपलब्धता और किसानों की कृषि क्षेत्र में जानकारी बढ़ाने की दिशा में इफको के योगदान की सराहना करते हुए सहकारिता मंत्री श्री यादव ने कहा कि इफको ने किसानों की उर्वरक उपलब्धता की समस्या के समाधान में बड़ा योगदान दिया है। इफको द्वारा खाद, बीज उपलब्ध कराने के साथ ही प्रशिक्षण सहित किसान हित में अन्य गतिविधियां संचालित की जा रही है। इफको द्वारा सहकारी समिति को सहयोग दिया जा रहा है। 

गोष्ठी को ग्राम्य विकास मंत्री श्री अरविन्द कुमार सिंह‘गोप’, राज्य मंत्री वन, खेलकूद एवं युवा कल्याण फरीद महफूज किदवई, कृषि राज्य मंत्री राजीव कुमार सिंह, विधायक राम गोपाल रावत, विधायक सुरेश यादव, विधायक राममगन रावत, पीसीएफ अध्यक्ष आदित्य यादव, इफको के अधिकारियों एवं अन्य वक्ताओं ने सम्बोधित किया। संचालन इफको के संयुक्त महाप्रबन्धक योगेन्द्र कुमार द्वारा किया गया। जिला सहकारी बैंक के चेयरमैन धीरेन्द्र कुमार वर्मा ने अतिथियों का आभार व्यक्त किया।

Uttar Pradesh, India