डिजिटल इंडिया का उद्देश्य है समृद्ध भारत

डिजिटल इंडिया का उद्देश्य है समृद्ध भारत

प्रधानमंत्री ने किया डिजिटल इंडिया वीक का शुभारंभ

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कहा कि ‘डिजिटल इंडिया’ भारत के भविष्य का खाका बदलने को तैयार हो गया है। क्योंकि इस अभियान से पहले ही देश में 4.5 लाख करोड़ रुपए का निवेश का ऐलान हो चुका है साथ ही इससे 18 लाख लोगों को रोजगार भी मिलने की संभावना पक्की हो गई है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज हमें दुनिया में आ रहे बदलाव को समझने की जरूरत है। अगर हम इस बदलाव को नहीं समझ पाए तो हम बहुत पिछड़ जाएंगे। उन्होंने कहा कि इस अभियान से हर नागरिक का सपना पूरा होगा। आज हर बच्चा डिजिटल की ताकत को समझता है।

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली के इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम में डिजिटल इंडिया सप्ताह का शुभारंभ किया। इस अभियान के तहत डिजिटल इंडिया पोर्टल, मोबाइल ऐप, माईगॉव मोबाइल ऐप, स्‍वच्‍छ भारत मिशन ऐप और आधार मोबाइल अपडेट ऐप जैसी सुविधाएं दी जाएंगी। इसके माध्यम से लोग पहली बार सरकार से सीधे तौर पर जुड़ेंगे। 

इसके साथ ही तमाम डिजिटल सेवा सुविधाएं शुरू हो गई हैं। डिजिटल इंडिया वीक के दौरान अरबों डॉलर के निवेश की संभावना जताई जा रही है। इस अवसर पर प्रधानमंत्री ने ईडीएफ पॉलिसी डॉक्युमेंट के साथ ही डिजिटल इंडिया बुक को भी लॉन्च किया। डिपार्टमेंट ऑफ टेलीकम्‍युनिकेशन 11 राज्‍यों में भारतनेट शुरू करेगा और देशभर में वाई-फाई की सुविधा उपलब्‍ध कराएगा। नेक्‍स्‍ट जेनरेशन नेटवर्क (एनजीएन) भी इस योजना का हिस्‍सा है।

इस मौके पर केंद्रीय सूचना प्रौद्योगिकी एवं संचार मंत्री रविशंकर प्रसाद ने समारोह की शुरुआत करते हुए कहा कि डिजिटल इंडिया का उद्देश्य है समृद्ध भारत, इसका सार है साक्षर भारत। इसके दम पर सशक्त भारत का निर्माण होगा। उन्होंने कहा कि भारतीय प्रतिभा को आईटी से जोड़कर देश को सशक्त बनाया जा सकता है। 

कार्यक्रम में केंद्रीय वित्त मंत्री अरूण जेटली, केंद्रीय सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद, रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी, उनकी पत्नी नीता अंबानी, एडीएजी चेयरमैन अनिल अंबानी, पवन मुंजाल, अनिल अग्रवाल, कुमार मंगलम बिड़ला सहित देश के कई दिग्गज कारोबारी भी मौजूद रहे। इनके अलावा विभिन्न देशों के राजदूतों और बड़े अधिकारियों समेत करीब 10 हजार लोग इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम में इस कार्यक्रम के गवाह बने।

India