दिल्ली में किसी बड़े नेता से नहीं मिल पाईं वसुंधरा, जयपुर वापस लौटीं

दिल्ली में किसी बड़े नेता से नहीं मिल पाईं वसुंधरा, जयपुर वापस लौटीं

नई दिल्ली: दिल्ली में नीति आयोग की बैठक में हिस्सा लेने के बाद वसुंधरा राजे जयपुर लौट चुकी हैं। बीजेपी के किसी बड़े नेता से उनकी मुलाक़ात नहीं हुई। इससे पहले अटकलें लगाई जा रही थीं कि ललित मोदी के साथ अपने संबंधों को लेकर विवादों में घिरीं वसुंधरा राजे शीर्ष नेतृत्व से मिलकर अपना पक्ष रख सकती हैं।

हालांकि पार्टी ने इस मामले में उन्हें पहले ही क्लीन चिट दे दी है, लेकिन विपक्ष लगातार उनके खिलाफ नए-नए ख़ुलासे कर रहा है। अब कांग्रेस ने ललित मोदी और वसुंधरा राजे के बिज़नेस पार्टनर होने का आरोप लगाया है।

कांग्रेस पार्टी ने आरोप लगाया है कि राजे के बेटे की जिस कंपनी में आईपीएल के पूर्व आयुक्त ललित मोदी ने 13 करोड़ रुपये निवेश किए थे, उसमें राजे सीधे तौर पर लाभान्वित थीं। कांग्रेस ने साल 2013 में चुनाव आयोग के समक्ष दाखिल राजे का एक हलफनामा जारी किया है, जिसमें दिखाया गया है कि अपने सांसद बेटे दुष्यंत सिंह के मालिकाना हक वाली कंपनी नियंत हेरीटेज होटल में उनके 3280 शेयर हैं।

ललित ने इस कंपनी के 10 रुपये मूल्य वाले हर शेयर के लिए 96,000 रुपये प्रति शेयर की अधिक दर से इस कंपनी में 11 करोड़ रुपये निवेश किए थे। इस खुलासे ने इन आरोपों को जन्म दिया है कि राजे को ललित के विवादास्पद निवेशों से फायदा हुआ। हालांकि राजस्थान बीजेपी अध्यक्ष अशोक परनामी ने यह दावा करते हुए खारिज कर दिया कि ये शेयर उन्हें दुष्यंत और उनकी पत्नी निहारिका ने तोहफे में दिए थे।