ललित मोदी विवाद: वसुंधरा ने हलफनामे पर दस्तखत की बात मानी

ललित मोदी विवाद: वसुंधरा ने हलफनामे पर दस्तखत की बात मानी

नई दिल्ली: कुछ रिपोर्टों के अनुसार वसुंधरा राजे ने ललित मोदी की मदद करने की बात स्वीकार कर ली है। सूत्र बता रहे हैं कि वरिष्ठ नेताओं के समझ वसुंधरा राजे ने यह बात मान ली है।

वहीं, बीजेपी के सूत्रों का यह भी कहना है कि पार्टी फिलहाल वसुंधरा से राजस्थान का मुख्यमंत्री पद छोड़ने के लिए नहीं कहेगी। वहीं, सूत्र यह भी बता रहे हैं कि पार्टी इस मुद्दे पर कहेगी कि वसुंधरा ने यह दस्तखत निजी हैसियत से किए थे न कि राजस्थान में विपक्ष के नेता पद की हैसियत से।

सूत्रों के मुताबिक बीजेपी वसुंधरा राजे के मामले में अपने स्तर पर जांच करेगी। बीजेपी को दस्तावेज़ों से छेड़छाड़ की आशंका है, इसलिए जांच के बाद ही पार्टी वसुंधरा पर कोई कार्रवाई करेगी।

उल्लेखनीय है कि ब्रिटेन में इमीग्रेशन के मामले में जब ललित मोदी को गवाहों की जरूरत थी तब वसुंधरा राजे से बतौर गवाह एक हलफनामा दिया था। इसी हलफनामे के चलते वह इस मुसीबत में फंसी हैं। ललित मोदी ने खुद कहा है कि साल 2011 में जब वह ब्रिटेन में प्रवास बढ़ाना चाहते थे, तब राजे ने मामले को गोपनीय बनाए रखने की शर्त पर उनकी इमीग्रेशन अर्जी का समर्थन किया था।

बता दें कि 2010 में ललित मोदी, भारत से लंदन चले गए थे जब उन पर टैक्स चोरी और मनी लॉन्डरिंग का आरोप लगा था। यह सारे आरोप उनपर आईपीएल के चेयरमैन होने के दौरान लगे थे। अपने ऊपर लगे आरोपों पर जवाब देने के लिए भारत आने से उन्होंने इस आधार पर मना किया है कि उनकी जान को अंडरवर्ल्ड से खतरा है।

India