बॉलीवुड में मुख्य भूमिका वाली फिल्म करना चाहती हैं श्रुति

बॉलीवुड में मुख्य भूमिका वाली फिल्म करना चाहती हैं श्रुति

मुंबई: ‘डी डे’ और ‘गब्बर इज बैक’ में अभिनेत्री का किरदार निभाने के बाद अब श्रुति की इच्छा बॉलीवुड में अकेले अपने दम पर सफल फिल्म देने की है। कमल हासन और सारिका की बेटी श्रुति का कहना है कि उन्हें बालीवुड में बड़े बजट की फिल्मों में छोटे किरदार निभाने में मजा जरूर आता है लेकिन अब वह अपने किरदार पर केंद्रित कोई फिल्म करना चाहती हैं।

श्रुति ने कहा, ‘यह ऐसी चीज है जिसे लेकर मैं उत्साहित हूं। मैं यकीनन अपने दम पर एक सफल फिल्म देने के लिए तैयार हूं। मैं इस तरह का किरदार निभाने को तैयार हूं जो पूरी तरह मुझ पर केंद्रित हो। मैं भविष्य में ऐसा कुछ जरूर करना चाहूंगी।’ बॉलीवुड में एकल मुख्य भूमिका मिलने तक 27 वर्षीय अभिनेत्री मल्टी स्टारर फिल्मों में अपने अभिनय का जौहर दिखाती रहेंगी।

श्रुति ने कहा कि ‘‘यह निर्भर करता है, मैं एकल या मल्टी स्टारर फिल्मों में से किसी एक को नहीं चुन सकती। ज्यादातर हम एकल मुख्य भूमिका वाले किरदारों को ही तरजीह देते हैं लेकिन यह भी उतना ही सत्य है कि मल्टी स्टारर फिल्मों से भी आपको पहचान मिलती है।’

श्रुति अपनी आने वाली फिल्म ‘यारा’ को लेकर खासी उत्साहित हैं । जिसका निर्देशन तिग्मांशु धूलिया करेंगे । फिल्म में अमित साध भी हैं। श्रुति ने कहा ‘ तिग्मांशु धूलिया जैसे फिल्मकार के साथ काम करना शानदार है । उनका नजरिया एकदम अलग है। ऐसे इंसान के साथ काम करना हमेशा ही बहुत बढ़िया रहता है जो कलाकार के अभिनय को एक नई उच्चाइयों पर ले जाते हैं। ‘यारा’ फिल्म का आधार और फिल्म में मेरा किरदार मुझे बहुत पसंद है।’

उन्होंने कहा कि ‘ मैं देश भर में अपनी पहचान कायम करना चाहती हूं । विभिन्न भाषाओं की फिल्मों में काम करना एक सोचा समझा निर्णय है। मेरे साउथ के प्रशंसक भी मेरे लिए उतने ही मायने रखते हैं जितने बॉलीवुड के प्रशंसक।’ बॉलीवुड में अभिनेत्री के तौर पर एक बड़ा मकाम हासिल करने से पहले ही श्रुति ने हाल ही में फिल्म ‘तेवर’ से बतौर गायिका भी अपनी उपस्थिति दर्ज करवाई ।

श्रुति से यह पूछने पर की क्या वह अब अपनी गायकी को गंभीरता से ले रही हैं। इस पर उन्होंने कहा कि‘ मैं गायकी के लिए हमेशा तैयार हूं बशर्ते मेरा अभिनय इससे बाधित न हो। मैं अपने लिए भी गाना जरूर गाना चाहूंगी पर यह निर्देशक पर निर्भर करता है कि वह ऐसा जरूरी समझते हैं या नहीं।