यूपी की जेलें अपराधियों की आरामगाह: विजय बहादुर पाठक

यूपी की जेलें अपराधियों की आरामगाह: विजय बहादुर पाठक

लखनऊ: भारतीय जनता पार्टी ने कहा कि अखिलेश के लचर प्रशासनिक व्यवस्था के कारण राज्य की जेले जहां अपराधियों के अरामगाह का रूप ले रही है वहीं आतंकी साजिश का केन्द्र भी बन रही है। प्रवक्ता विजय बहादुर पाठक ने कहा कि मुरादाबाद में जिस तरह चार वर्षो से बंद अपराधी के पास से राष्ट्रपति भवन का नक्शा, बीएसएफ कैम्प हाजी चैक व नेशनल स्टेडियम के नक्शे के साथ तीन पेनड्राइव और चिप, सहित अन्य आपत्ति जनक वस्तुएं मिली वे चैकाने वाली परिस्थितियों का चित्रण कर रही हैं।
पार्टी मुख्यालय पर सोमवार को अखिलेश राज में जारी प्रशासनिक अराजकता पर हमलावर होते हुए प्रवक्ता विजय बहादुर पाठक ने कहा सरकार का घटता इकवाल जहां राज्य की कानून व्यवस्था को ध्वस्त कर रहा है, वहीं राज्य में प्रशासनिक अराजकता को बढ़ा रहा है। राज्य की जेले माफिया और दबंगों की अयाशी के अड्डे के रूप में प्रयोग में हो रही है। खुद जेल मंत्री के गृह जनपद का हाल है कि वहां भारी मात्रा में मोबाईल बरामद होते हैं। जिस तरह से प्रशासनिक छापेमारी के दौरान राज्य की जेलों मे आपत्तिजनक चीजें पायी गयी हैं उससे स्पष्ट हो गया है कि जेल प्रशासन की मिलीभगत से आराम फरमा रहे कैदी जेल प्रशासन को अपने हिसाब से चला रहे है। 
उन्हांेने कहा कि मुरादाबाद जेल में बंद एक कैदी के पास से जिस तरह से बीएसएफ कैम्प और बार्डर एरिया के साथ-साथ दिल्ली के कुछ महत्वपूर्ण ठिकानों के नक्से मिले वे चैकाने वाले है। हत्या के विचाराधिन बंदी के पास से 3 पैनड्राइव, 3 मिमोरी कार्ड, एक मोबाईल सिम कार्ड सहित संदिग्ध दस्तावेजों की बदामदगी बताती है कि किस तरह से आतंकी गतिविधियों के संचालन में जेलों का इस्तेमाल हो रहा है। इस प्रकरण के विस्तृत जांच कराये जाने की मांग करते हुए प्रवक्ता ने कहा कि जेलों में भारी अराजकता की विस्तृत रिपोर्ट बार-बार सुरक्षा एजेन्सियों के देने के वाजजूद सरकारी लापरवाही के कारण राजनैतिक रसूख से जेलों में अपनी गतिविधियों को अंजाम दे रहे लोग अपने हिसाब से जेल प्रशासन का प्रयोग कर रहे है।
श्री पाठक ने कहा कि राजधानी लखनऊ समेत राज्य की अधिकांश जेलों में की गयी छापेमारी के दौरान हजारों रूपये नगद, मोबाइल सिम, नशे के समान की जिस तरह से बरामदगी हुई है उसमें अपराधी और जेल प्रशासन के गठजोड़ से चल रहे जेल के अन्दर के कारोबार को उजागर किया है जबकि छापेमारी की खबर योजना पूर्वक लीक कर दी गयी थी उसके बावजूद इस प्रकार से समान पाये गये। उन्होंने कहा कि जहां अपत्तिजनक वस्तुऐ बरामद हुई है, वहां के अधिकारियों पर भी कठोर दण्डात्मक कार्यवाही हो।
Lucknow, Uttar Pradesh, India